Search Lok Sabha MPs Performance Click here
parliament
CURRENT SESSION
v/s PREVIOUS SESSION
Search Lok Sabha MPs Performance   Click here
Download this Graphics Image
PRESS RELEASE

Not a single question asked by Rahul in Lok Sabha in 5 years, Modi-Rahul Both missed to spend their MP Funds.

  • 5 years of Lok Sabha analysis
  • Among 1.42 Lakh Questions mostly on Farmer's Suicides
  • Lok Sabha Interruption more than 63,000 times
  • More than 500 hours wasted
  • MPs unable to spend their MP Funds

New Delhi. Both popular political opponents, Prime Minister Narendra Modi and Congress President Rahul Gandhi, have failed to fulfill their Parliamentary responsibilities in full during the five years of the just concluded 16th Lok Sabha. A study by the Parliamentary Business.com has revealed that while the self proclaimed Vikas Pursh, Narendra Modi had been stingy in spending his MPs fund, Rahul Gandhi was more vocal outside Parliament than within.

A representative of the Parliamentary Business.com commenting on the work of the Parliamentarians says that almost all members were loud spoken outside the chamber. Yet in the performance of their most vital responsibilities, raising questions on important issues confronting the nation, they failed to fulfill their responsibilities by a wide margin

It has been revealed that 31 members of the House did not ask a single question during the entire five years. It is interesting to note that the Congress President was one of those who did not submit any questions. Eminent members, including the former Prime Minister H.D DevGodha, former Deputy Prime Minister L.K.Advani, Former Congress President Sonia Gandhi, Mulaiam Singh Yadav were also among those who did not submit any questions on the performance of the government.

These are some of the details which have emerged following a study by the website, which was inaugurated by the Lok Sabha Speaker, Smt. Sumita Mahajan, covering the entire period of five years. The study covers all sessions during the entire five years of the 16th Lok Sabha.

The 16th Lok Sabha sat for 331 days against 357 days during the 15th Lok Sabha. Almost 80 percent attendance were recorded by the members of the 16th LS during past five years. Of these 80.34 percent by male members while 77.98 percent by women members. Two members, Bharon Prasad Mishra from BJP and Dr. Kulmani Samal from BJD were the only two MPs who clocked 100 percent attendance. It would seem that the younger MPs did not show adequate interest in attending the House sessions.

Modi and Gandhi were also among those who have not spent the entire allocation of funds for their constituencies. While the Prime Minister has spent 62.96 percent, Rahul Gandhi has spent 60.56 percent. The study has revealed that among the MPs who have used their funds well is Congress Member is Ninong Ering, who is the only Congressman among the list of 50 members. Among the MPs who have spent 95 percent and more are Murali Manohar Joshi, Giriraj Singh, Ashwini Kumar Choubey, and Anuraj Thankur.

According to this study over 30 percent of the funds allocated for constituency development was unspent (as on Jan 10,2019 from MPLADs Govt. website) which cast Rs 4021.13 crore. It has been found that women member performed better in spending constituency funds compared with their male counterparts. Women MPs spent almost 72 percent of their allocations against just 66.33 percent by the male members. MPs representing constituencies in Rajasthan, Uttarkhand, Maharashtra and Delhi were identified as those spending the lerast.

During the 16th Lok Sabha more than 1.42 lakh questions were asked. 93.38 percent MPs asked questions. Among those who asked the most questions were Supriya Sule, Vijay Singh Mohate Patil and Dhanjay Mahadik.

It is interesting to note that a majority of questions were on issues relating to farmers suicides and other problems faced by farmers. The survey has revealed that 171 members of Parliament asked questions relating to farmers suicides. In addition, majority of questions were asked on issues relating to finance, health, family welfare and the railways.

The Parliamentary Business study reveals that MPs seemed more interested in participating in debates rather than submitting questions. It is interesting to note that 94 percent of the members participated in debates on various issues raised in the House. Some 32,314 times discussions were held on various issues in the House. Banda, UP, MP Bharon Prasad Misra was the most active in these discussions He was found to have participated 2006 times in debates.

It is interesting to note that productive time in the 16th Lok Sabha was 87 percent which compares well with 61 percent in the 15th and almost the same 87 percent in the 14th. The maximum amount of work was conducted during the 2016 Budget session while the least was during the Winter session of the same year. Whereas during the Budget session 126 percent of the work was conducted, during the Winter Session only 17 percent work was conducted.

During the entire five years the House lost its 500 hours in the work scheduled for business. 16th Lok Sabha was able to conduct business for just 1659.47 hours. The main cause for the loss was frequent disturbances caused by members. According to the study during the entire five year the house was disturbed 63,443 times.

On 601 occasions members entered the well of the House and on 171 occasions they staged a walk out. In addition on 313 occasions the Speaker was forced to adjourn the House. It is interesting to note that more than 191 occasions the House did not have the required quorum necessitating that the quorum bell be rung to summon members.

About 93 percent of the 219 government bills presented in the House were passed. The Survey has revealed that the House was unduly cruel to private members bills. None of the 1117 private members bills presented in the House were passed during the five years. Private members bills were submitted by both the ruling and the opposition party members.

प्रेस विज्ञप्ति

बाहर सवाल उठा रहे राहुल गांधी ने 5 साल में संसद में नहीं पूछा एक भी सवाल, एमपी लैड खर्च करने में मोदी- राहुल दोनों कंजूस

  • लोकसभा के 5 साल का विश्लेषण
  • 1.42 लाख सवालों में सबसे ज्यादा किसानों की आत्महत्या पर
  • 63 हजार से ज्यादा बार हुआ संसद में व्यवधान
  • 500 से ज्यादा घंटे हुए बर्बाद
  • सांसद विकास निधि भी खर्च नहीं कर पाए हमारे सांसद

नईदिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी संसद के बाहर भले ही बढ़ चढ़कर बोलते हो लेकिन लोकसभा में पांच साल के दौरान उन्होंने एक भी सवाल नहीं पूछा। वहीँ सांसद विकास निधि (एमपी लैड) के पैसे खर्च करने में भी वे काफी पीछे हैं।वहीँ विकास के नाम राजनीति करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी एमपी लैड के जरिये विकास करने में कंजूस हैं।

संसद और सांसदों के कामकाज पर केन्द्रित वेबसाइट ‘पार्लियामेंट्री बिजनेस डाट काम’ के अध्ययन के मुताबिक तमाम नेता संसद और संसद के बाहर तो खूब सक्रिय दिखे लेकिन सांसद की सबसे प्रमुख जिम्मेदारी सवाल पूछने के मामले में फिसड्डी साबित हुए. कुल 31 सांसद ऐसे हैं जिन्होंने एक भी सवाल पूछना गवारा नहीं समझा. वेबसाइट ‘पार्लियामेंट्री बिजनेस डाट काम’ का लोकार्पण लोकसभाध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने किया था. वेबसाइट ने लोकसभा के बजट सत्र सहित पूरे पांच साल के सभी सत्रों का गहराई से विश्लेषण कर कई रोचक जानकारियां पेश की हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी,वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्रीमती सोनिया गाँधी,दिग्गज भाजपा नेता लालकृष्ण आडवानी, अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा,समाजवादी दिग्गज मुलायम सिंह यादव और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा जैसे नेताओं में एक समानता है कि इनमें से किसी भी नेता ने लोकसभा के पांच साल के कार्यकाल में एक भी सवाल नहीं पूछा।

राहुल गांधी ने एमपी लैड की जहाँ लगभग 60.56 फीसदी राशि खर्च की है तो नरेंद्र मोदी भी महज 62.96 फीसदी रकम खर्च कर पाए हैं। राहुल के नक़्शे कदम पर चलते हुए कांग्रेस के कुल 45 सांसदों ने भी इस मामले भरपूर कंजूसी दिखाई और सांसद विकास निधि का सर्वाधिक उपयोग करने वाले देश के शीर्ष 50 सांसदों में मात्र दो सांसद कांग्रेस के हैं जो 45वें एवं 49वें नंबर पर है। सांसद निनोंग एरिंग और श्री डी.के. सुरेश ही इस सूची में स्थान बनाने में कामयाब रहे। वहीँ अश्विनी कुमार चौबे,गिरिराज सिंह,मुरली मनोहर जोशी और अनुराग ठाकुर जैसे कुछ सांसद ऐसे भी हैं जिन्होंने एमपी लैड का 95 फीसदी से अधिक इस्तेमाल कर दिखाया।

लोकसभा में पूछे गए सवालों की बात करें तो ऐसा नहीं है कि सभी सांसद इस मामले में लापरवाह हैं बल्कि सुप्रिया सुले,विजय सिंग मोहिते पाटिल और धनंजय महादिक जैसे सांसद भी हैं जो सवाल पूछने में सबसे आगे हैं. सोलहवीं लोकसभा में कुल 1 लाख 42 हजार से ज्यादा सवाल पूछे गए और इसमें लगभग 93 फीसदी सांसदों की सक्रिय भागीदारी रही. उल्लेखनीय बात यह है कि सर्वाधिक सवाल किसानों की आत्महत्या और उनकी अन्य समस्याओं को लेकर पूछे गए. कुल 171 सांसदों ने किसानों की आत्महत्या पर प्रश्न पूछे.इसके अलावा वित्त,स्वास्थ्य,परिवार कल्याण और रेलवे से सम्बंधित प्रश्न भी ज्यादा पूछे गए।

सवालों से ज्यादा सांसदों की रूचि बहस और अन्य संसदीय कामकाज में दिखी और इसमें 94 फीसदी से ज्यादा सांसदों ने भागीदारी दर्ज कराई. इस लोकसभा के पांच सालों में 32,314 बार विभिन्न विषयों पर बहस हुई और भाजपा के बांदा से सांसद भैरो प्रसाद मिश्र ने 2038 बार बहस में अपनी सक्रिय भूमिका निभाकर सबसे आगे रहे।

यदि लोकसभा में हुए कामकाज और बर्बाद हुए समय का विश्लेषण किया जाए तो 16 वीं लोकसभा की उत्पादकता कुल मिलाकर 87 प्रतिशत रही। सबसे अधिक काम 2016 के बजट सत्र में और सबसे कम काम इसी वर्ष हुए शीतकालीन सत्र में हुआ। बजट सत्र में जहाँ 126 फीसदी काम हुआ वहीँ शीतकालीन सत्र में महज 17 काम हो पाया। लोकसभा में कुल मिलाकर 1659:47 घंटे ही काम हुआ और तक़रीबन 500 से ज्यादा घंटे का समय बर्बाद हुआ।

लोकसभा का समय बर्बाद होने का कारण लगातार चलते रहने वाला व्यवधान है. 16 वीं लोकसभा के पांच सालों में कुल 63,443 बार व्यवधान हुआ. इसके अलावा, 601 बार सांसद वेल में पहुंचे और 171 बार बहिर्गमन (वाक् आउट) किया. बार बार के व्यवधानों के कारण 313 बार लोकसभा को स्थगित करना पड़ा. दिलचस्प बात तो यह है कि सतत व्यवधान के कारण सांसद लोकसभा में कम रहते हैं और इसके फलस्वरूप 191 बार तो कोरम पूरा करने के लिए घंटी बजानी पड़ी।

16 वीं लोकसभा में 219 गवर्मेंट बिल रखे गए और इनमें से 93 प्रतिशत पास हो गए जबकि प्राइवेट मेंबर बिल की अनदेखी का सिलसिला इस लोकसभा में भी चलता रहा और 1117 प्राइवेट मेंबर बिल में से एक भी पास नहीं हो पाया जबकि इसमें सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों ओर के सांसदों की भागीदारी थी।

जहाँ तक लोकसभा में उपस्थिति की बात है तो इन पांच सालों में औसतन 80 फीसदी उपस्थिति दर्ज की गयी. इसमें पुरुष सांसदों की मौजूदगी 80.34 प्रतिशत और महिला सांसदों की उपस्थिति 77.98 फीसदी रही. यदि पार्टी वार सांसदों की उपस्थिति की बात करें तो सत्तारूढ़ भाजपा के सांसद उपस्थिति के मामले में पांचवे तो मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के सांसद संसद में मौजूदगी के मामले में 21 वें स्थान पर रहे. व्यक्तिगत उपलब्धि के तौर पर देखे तो भाजपा के भैरो प्रसाद मिश्र और बीजू जनता दल के डा कुलमणि सामल ने सौ फीसदी उपस्थित रहकर शत प्रतिशत उपस्थिति दर्ज कराई. युवा सांसद ने भी उपस्थिति के मामले में ज्यादा रूचि नहीं दिखाई जबकि पहली बार के सांसद बढ़ चढ़कर संसद पहुंचे।

जहाँ तक सांसद विकास निधि के खर्च की बात है तो अब तक 30 फीसदी से अधिक निधि बिना खर्च हुए सरकारी खजाने की शोभा बढ़ा रही है. कहने का तात्पर्य यह है कि सांसदों को हर साल मिलने वाली विकास राशि भी पूरीतरह से खर्च नहीं हो पायी. एमपी लैड पर सरकार की ही वेबसाईट पर उपलब्ध आकंड़ों के अनुसार 10 जनवरी 2019 तक बिना खर्च हुए 4021.13 करोड़ रुपये जमा हैं. सांसद विकास निधि खर्च करने में महिला सांसद बेहतर हैं उन्होंने 72 फीसदी राशि खर्च कर दी जबकि पुरुष सांसद 69.33 प्रतिशत राशि ही खर्च कर पाए. राजस्थान,महाराष्ट्र,दिल्ली और उत्तराखंड के सांसद इस राशि को खर्च करने के मामले में सबसे फिसड्डी हैं।

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP