Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKINGOUT OF

देश के 25 जिलों ने कैसे दिखाया कोरोना को अंगूठा!

कोरोना से जंग में 15 राज्यों के 25 जिलों ने लगभग जीत हासिल कर ली है। जिला प्रशासन के कंटेनमेंट स्ट्रैटिजी के तहत काम करने के साथ टाइमली रेस्पॉन्स के लिए कटिंग एज टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया जिससे ये संभव हो सका है। इन 25 जिलों में 14 दिनों में एक भी नए मामले सामने नहीं आएं हैं।

Suyash Tripathi
Suyash Tripathi | 15 Apr, 2020 | 3:38 pm

वीडियो स्टोरी भी देखें

कोरोना वैश्विक महामारी दुनिया भर में अपनी चपेट में अब तक 12 लाख से ज्यादा लोगों को ले चुका है। दुनिया का कोई ऐसा कोना नहीं बचा जहां कोरोना ने तबाही न मचाई हो। भारत में भी संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 11 हजार के पार जा चुका है। कोरोना के संकट को भांपते हुए मोदी सरकार ने देशव्यापी 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित किया था, जिसे मंगलवार 14 अप्रैल को बढ़ाकर 3 मई तक के लिए कर दिया गया। इन 21 दिनों के लॉकडाउन में भारत के हर राज्य से कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए। कई राज्यों में हालात बेकाबू हुए, जिसे तत्काल रोकने के लिए अत्यधिक प्रभावित इलाकों को चिंहित कर कोरोना हॉटस्पॉट घोषित किये गये। इन इलाकों को पूरी तरह से सील कर दिया गया, जिससे तेजी से फैलते कोरोना के संक्रमण को रोका जा सके। लेकिन इनसे इतर देशभर में ऐसे कई जिले भी रहे जिनमें कोरोना के संक्रमण पर पूरी तरह से काबू पा लिया गया।

Main
Points
सरकार ने लॉकडाउन की सीमा 3 मई तक आगे बढ़ाई
लॉकडाउन 1.0 में कोरोना से बचे 15 राज्यों के 25 जिले
पूरी तरह संक्रमण रोकने में रहे कामयाब
राज्य सरकारों की सावधानी का मिला सकारात्मक फल
सबसे ज्यादा कर्नाटक के 4 जिले संक्रमण रोकने में रहे अव्वल

कंटेनमेंट स्ट्रैटिजी ने जिताया

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश के 15 राज्यों के 25 जिले ऐसे भी हैं जहां पहले तो कोरोना वायरस के संक्रमित रोगी मिले थे, लेकिन पिछले 14 दिनों से वहां एक भी नए मामले की पुष्टि नहीं हुई। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने 25 जिलों की सूची जारी कर यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ‘जब यहां कोरोना पॉजिटिव केस आए तो जिला प्रशासन ने कंटेनमेंट स्ट्रैटिजी के तहत काम किया। जिसके परिणाम हमें दिखने लगे हैं लेकिन अभी भी जरूरत है कि हम अपनी विजिलेंस उसी ताकत के साथ बनाए रखें। हम यह सुनिश्चित करें कि आनेवाले दिनों में इन जिलों में पॉजिटिव केस ना आएं।'

कौन से हैं ये जिले

इन जिलों में सबसे ज्यादा कर्नाटक के 4 जिले दावनगिरी, कोडागू , तुमकुर और उडूपी, छत्तीसगढ़ के 3 राजनांदगांव, दुर्ग और बिलासपुर , बिहार के 3 पटना, नालंदा, मुंगेर , हरियाणा के 3 पानीपत, रोहतक और सिरसा , केरल के 2 वायनाड और कोट्टायम , महाराष्ट्र का 1 गोंदिया , गोवा का 1 दक्षिण गोवा , राजस्थान का 1 प्रतापगढ़ , उत्तराखंड का 1 पौढ़ी गढ़वाल ,  तेलंगाना का 1 भद्रदारी कोठगुदेम , मणिपुर का 1 पश्चिम इंफाल , जम्मू-कश्मीर का 1 राजौरी , मिजोरम का 1 आइजोल पश्चिम , पुडुचेरी का 1 माहे , पंजाब का 1 एसबीएस नगर इस सूची में शामिल हैं।

लॉकडाउन में सख्ती बनी सही रणनीति

ये देश के ऐसे 25 जिले हैं जहां 14 दिन पहले कोरोना वायरस के मरीज मिले थे। राज्य सरकारों और स्थानीय प्रशासन ने तत्काल सावधानी बरतते हुए इन जिलों में लॉकडाउन को बेहद सख्ती से लागू किया। इसमें स्थानीय लोगों का भी सहयोग मिला, इसका नतीजा ये हुआ कि यहां पर 2 सप्ताह बाद कोरोना वायरस का कोई नया मामला सामने नहीं आया। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि “कोरोना से लड़ाई में सटीक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना बहुत जरुरी है। टाइमली रेस्पॉन्स के लिए कटिंग एज टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। हम टेक्नोलॉजी की मदद से लाइव केस ट्रैकिंग, केस मैनेजमेंट और कंटनेमेंट प्लान को लागू करने के साथ-साथ उसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं।”

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की अपील

स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसे बेहद सकारात्मक रिपोर्ट करार दिया है और देशभर के तमाम राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों से अपील भी की है कि इन जिलों को रोल मॉडल मान अपने अपने राज्यों में इसी तरह की सख्ती का पालन करते हुए कोरोना के संक्रमण पर पूरी तहर फुल स्टाप लगाएं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने देशवासियों से भी अपील करते हुए कहा है कि लॉकडाउन का पालन करें और अनावश्यक अपने घरों से न निकलें तथा एक जुट हो इस महामारी को देश से पूरी तरह खत्म करने में सरकार की मदद करें।

Tags:
Corona   |  Corona pandemic   |  Lockdown   |  MoHFW   |  State Govt   |  Waragainst corona

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP