Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKINGOUT OF

राहुल गाँधी के सवाल और नोबेल लॉरेट अर्थशास्त्री अभिजीत के शानदार जबाव

अभिजीत ने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए जरूरी है कि लोग पैसा खर्च करेंइसके लिए सरकार को चाहिए कि उन्हें पैसा दें। उन्होंने कहा कि निचले तबके की 60% आबादी को पैसा देने में कोई बुराई नहीं है। शायद उनमें से कुछ को इसकी जरूरत नहीं होगी। लेकिन वे इसे खर्च करेंगे, तो इसका अच्छा प्रभाव होगा।

PB Desk
PB Desk | 05 May, 2020 | 4:53 pm

सब कुछ संभव है। इरादे बुलंद हो तो कोई काम मुश्किल नहीं। नोबेल पुरस्कार से सम्मानित प्रख्यात अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के सवाल का जबाब देते हुए कहा कि संभव तो कुछ भी है लेकिन उसके लिए इरादे होने चाहिए। अभिजीत ने कहा यूपीए के अंतिम वर्षों में विचार था आधार योजना को राष्ट्रीय स्तर पर लागू करना, जिसे इस सरकार ने भी स्वीकारा, ताकि उसका उपयोग पीडीएस और अन्य चीजों के लिए किया जा सके।  आधार कार्ड के जरिए आप जहाँ भी होंगे, पात्र होंगे। इसके साथ ही वैकल्पिक राशन कार्ड की व्यवस्था  देश में हो। अभिजीत बनर्जी ने कहा कि देश में लॉकडाउन के कारण लोगों को राशन नहीं मिल पा रहा है।  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा राशन कार्ड को लेकर पूछे गये सवाल के जवाब में अभिजीत ने कहा कि पूरे देश में जो अभी राशन कार्ड चल  रहा है, उसे अभी स्थगित कर देना चाहिए और सभी को वैकल्पिक राशन कार्ड देना चाहिए।

Main
Points
प्रख्यात अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने कहा है कि जबतक लोगों के पास पैसे नहीं होंगे
खर्च कैसे होगा ? लोगों में पैसे देने की जरुरत है
साथ ही सबको पीडीस की सुविधा मिलनी चाहिए तभी वर्तमान संकट से निपटा जा सकता है

गौरतलब है कि देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए राहुल गाँधी लगातार अर्थशास्त्रियों से बात कर रहे हैं और उनसे सुझाव मांग रहे हैं। सबसे पहले राहुल गाँधी ने आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन से बात की थी और देश की मजबूती के लिए उनसे सुझाव मांगे थे। सुझाव लेने की दूसरी कड़ी में राहुल गाँधी ने प्रख्यात अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी से विडिओ कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बात की है और उनसे सुझाव मांगे हैं।

राहुल के सवाल के जबाव में नोबेल लॉरेट ने कहा है कि  देश में न्याय जैसी योजना लागू होनी चाहिए।  बातचीत के दौरान राहुल गांधी ने पूछा कि देश में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को कैसे ठीक किया जा सकता है? छोटे और लघु  उद्योग को कैसे फिर से पटरी पर लाया जा सकता है? इसके जवाब में अभिजीत ने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए जरूरी है कि लोग पैसा खर्च करें, इसके लिए सरकार को चाहिए कि उन्हें पैसा दें। उन्होंने कहा कि निचले तबके की 60% आबादी को पैसा देने में कोई बुराई नहीं है। शायद उनमें से कुछ को इसकी जरूरत नहीं होगी। लेकिन वे इसे खर्च करेंगे, तो इसका अच्छा प्रभाव होगा। 

बता दें कि  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सवाल के शुरआत में कहा कि यूपीए शासन में भारत में नीतिगत ढांचा था, गरीब लोगों के लिए एक मनरेगा प्लेटफार्म था।  अब उसका बहुत कुछ उल्टा होने वाला है, कोरोना के कारण लाखों-करोड़ों लोग वापस गरीबी में जाने वाले हैं।  इस बारे में कैसे सोचना चाहिए? जवाब में अभिजीत ने आगे कहा सबसे बड़ी बात मांग को पुनर्जीवित करना है।  हर किसी को पैसा दिया जाए, ताकि वो सामान खरीदें। अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए खर्च बढ़ाना आसान तरीका है। लघु और छोटे उद्योगों को पैसा मिलने वे इसे खर्च करते हैं।  फिर इससे अर्थव्यवस्था को गति मिलती है।

Tags:
Rahul Gandhi   |   Abhijeet Banerjee   |  Corona Effect   |  Economy

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP