Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

BCI ने चीफ जस्टिस बोबड़े को लिखा पत्र, कहा नियमित रूप से चलें अदालतें

बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा ने मुख्य न्यायधीश शरद अरविन्द बोबड़े को पत्र लिखा और कहा की अगर लॉकडाउन 3 मई केबाद भी बढ़ाया जाता है तो अदालतों में सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए न होकर नियमित रूप से हो और वकीलों को कोर्ट आकर प्रैक्टिस करने की इजाजत दी जाए|

Riya Rai
Riya Rai | 30 Apr, 2020 | 2:08 pm

कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन है| लॉकडाउन की वजह से देश के हर क्षेत्र में  कामकाज भी बंद हो गया है जिससे लोगों को अनेक तरह की परेशानियों और चुनौतियों का सामना  करना पड़ रहा है| यहां तक लॉकडाउन के चलते देशभर में अदालतें भी बंद हैं| केवल सर्वोच्च और उच्च न्यायालय वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई कर रहे हैं|

Main
Points
BCI के चेयरमैन ने मुख्य न्यायधीश अरविन्द बोबड़े को लिखा पत्र
BCI ने कहा लॉकडाउन बढ़ने पर कोर्ट में नियमित रूप से हो सुनवाई
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई के पक्ष में नहीं है BCI
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई लिए एडवांस नहीं टेक्नॉलोजी
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बेहद महत्वपूर्ण मामले की हो सुनवाई

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई के पक्ष में नहीं है BCI

बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग जरिए सुनवाई के पक्ष में नहीं है| BCI का कहना है की 3 मई यानी दूसरे चरण के लॉकडाउन के बाद भी अगर लॉकडाउन बढ़ाया जाता है तो अदालतों में सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से न होकर नियमित रूप से हो|

BCI ने चीफ जस्टिस अरविन्द बोबड़े को लिखा पत्र

न्यायालयों में सुनवाई को लेकर बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा ने मुख्य न्यायधीश शरद अरविन्द बोबड़े को पत्र लिखा और कहा की देश में लॉकडाउन का पालन करते हुए अपने घरों में कैद हैं| लेकिन अगर लॉकडाउन 3 मई के बाद भी बढ़ता है, तो फिर वकीलों को न्यायलय आकर प्रैक्टिस करने की इजाजत मिलनी चाहिए|

BCI ने पत्र में क्या कहा ?

मुख्य न्यायधीश शरद अरविन्द बोबड़े को लिखे पत्र में BCI के चेयरमैन मनन मिश्रा ने कहा की बेहद महत्वपूर्ण मामलों की सुनवाई ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होनी चाहिए, लेकिन फ़िलहाल यह देखने को मिल रहा है की सामान्य मामलों की सुनवाई भी न्यायधीश वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही कर रहे हैं|

हमारा सिस्टम टेक्नॉलोजी में नहीं है इतना एडवांस-BCI

मनन मिश्रा ने पत्र में आगे लिखा की हमारा हालिया सिस्टम टेक्नॉलोजी में  इतना एडवांस नहीं हुआ है की सभी मामलों की सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया जा सके| उन्होंने कहा की इसके लिए पुरे सेटअप की जरुरत के साथ वकीलों को भी समुचित ट्रेनिंग डाई जाने की आवश्यकता है|

वकीलों के लिए परिवार चलाना होगा मुश्किल-BCI

BCI के चेयरमैन ने अपने पत्र में लिखा की लॉकडाउन के कारण बड़ी संख्या में करीब 19 लाख वकीलों का कोर्ट आना बंद हो गया है और उनका कामकाज भी ठप हो गया है| ऐसे में लॉकडाउन के दौरान देश के विभिन्न हिस्सों में बार काउंसिल अपने सीमित संसाधनों से वकीलों की आर्थिक मदद की कोशिश कर रही है| ऐसे में लॉकडाउन आगे भी जारी रहा और वकीलों को न्यायलय आने की अनुमति नहीं दिया गया, तो वकीलों के लिए अपना परिवार चलाना भी मुश्किल हो जाएगा और यह जस्टिस सिस्टम के लिए नुकसानदेह होगा|

न्यायालय का काम  निष्पक्ष आदेश देना है

चीफ जस्टिस को लिखे पत्र में मनन मिश्रा ने आगे लिखा की अगर सभी मामलों की सुनवाई वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग जरिए ही होने लगेगी, तो SC और HC लेकर नीचली अदालतों तक की सारी इमारतों की जरुरत खत्म हो जाएगी| न्यायालय का काम न सिर्फ सभी पक्षों सुन्ना होता है, बल्कि निष्पक्ष आदेश भी देना होता है|

अधिकतर मामलों की सुनवाई के लिए सक्षम नहीं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग 

BCI के चेयरमैन ने पत्र में आगे ये भी लिखा की अधिकतर मामलों की सम्पूर्ण सुनवाई के लिए सक्षम नहीं है|

सरकार ने वकीलों की मदद के लिए नहीं की कोई घोषणा 

बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने मुख्य न्यायधीश को लिखे पत्र में ये भी कहा की केंद्र और राज्य सरकार ने वकीलों की आर्थिक मदद के लिए अब-तक न तो कोई कदम उठाया और न ही किसी प्रकार की घोषणा की है| ऐसे में वकीलों की जीविका और लीगल जस्टिस सिस्टम से आम जनता को न्याय दिलवाने के लिए नियमित रूप से कोर्ट चलाना बेहद जरुरी है|

Tags:
Corona Virus   |  Lockdown   |  BCI   |  Mananmishra   |  CJ   |  sharad Arvind   |  Bobde   |  Supreme Court   |  chief justice

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP