Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

कार्य या खानापूर्ति


Parliamentary Business Team
Parliamentary Business Team | 07 Mar, 2020 | 12:00 am

सुबह से दो बार स्थगित हो चुकी लोकसभा तीसरी बार २ बजे शुरू हुई. लेकिन विपक्ष के तेवर में कोई भी बदलाव नहीं आया विपक्षी सांसद  लगातार दिल्ली हिंसा पर सदन में चर्चा कराने की मांग करते रहे. विपक्षी सांसदों के विरोध के बावजूद लोकसभा अध्यक्ष ने कार्यवाही आगे बढ़ाई। इन सब के बीच सभापति के भी तेवर भी बदलते रहे.

Main
Points
बैंकिंग रेगुलेशन बिल हुआ पेश
विपक्ष का कायम रहा अड़ियल रुख
सदन कल 11 बजे तक के लिए स्थगित

लगातार हंगामे के बीच लोकसभा ने तय कार्ययोजना के अनुसार कुछ कार्य पूर्ण किया. लोकसभा जब तीसरी बार शुरू हुई तो सबसे पहले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने  प्रपत्र सभा के पटल पर रखा. केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने लोकसभा के पटल पर अपना प्रपत्र पेश करने के पश्चात संसद से गैरमौजूद रहे राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला और राज्य मंत्री  संजीव कुमार बालियान के भी प्रपत्र पटल पर रखे. राज्य मंत्री शाहिब दादाराव, राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी, , राज्य गृह मंत्री नित्यानंद राय, राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने भी सदन के पटल पर प्रपत्र रखे.

दिल्ली हिंसा पर चर्चा कराने के मांग के बीच ही संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बिज़नेस एडवाइजरी समिति की 14 वीं रिपोर्ट लोकसभा में पेश की.लोकसभा की कार्ययोजना के अनुसार क्रमांक संख्या 11 से 18 तक स्थायी समितियों के वभिन्न विभागों के रिपोर्ट्स पेश होने प्रस्तावित थे. जिसे उसी हंगामें के बीच ही लोकसभा में रखा गया. स्थायी समिति की रिपोर्ट में कृषि, ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, परिवहन पर्यटन एवं संस्कृति से सम्बंधित  रिपोर्ट्स शामिल थे.

विधायिका के कार्य के अंतर्गत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में The Banking Regulation (Amendment) Bill 2020 रखा. जिसे ध्वनि मत से चर्चा के लिये परित कर दिया गया.निर्मला सीतारमण ने इस बिल कि अहमियत बताते हुये कहा कि यह संसोधन बेहद अहम है. इस संसोधन के आने से बैंको मे  डीपोजिट बीमा कि सीमा 1 लाख से बढकर 5 लाख हो जायेगी.

अध्यक्ष ओम  बिरला ने विपक्ष की उस मांग की याद दिलायी जिसमे विपक्ष द्वारा अनुसूचित जाति- जनजाति, समाज कल्याण, वरिष्ठ नागरिक, दिव्यांग  जैसे मुद्दे पर दो दिनों  तक चर्चा कि मांग  की थी. लेकिन विपक्षी सांसदो द्वारा हंगामा लगातार जारी रहा.

2 बजे शुरु हुये  सदन को 20 मिनट बाद ही पुनः 2:20 मिनट पर 4 मार्च 2020 11 बजे  तक के लिए स्थगित करना पड़ा.

Tags:

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP