Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

लोकसभा में हंगामा जारी कब आएगी काम की बारी ?


Parliamentary Business Team
Parliamentary Business Team | 07 Mar, 2020 | 12:00 am

लोकसभा का ग्यारहवां दिन भी हंगामे के ही भेंट चढ़ा। हंगामे से शुरू हुआ आज का दिन हंगामे के साथ ही ख़त्म हुआ। विपक्ष की तरफ से लगातार दिल्ली हिंसा पर चर्चा की मांग होती रही। यहां तक कि लोकसभा स्पीकर पर कागज के टुकदे भी उछाले गए। इन सारी घटनाओं से लोकसभा की प्रोडक्टिविटी पर प्रभाव पड़ा। कल जहां लोकसभा की प्रोडक्टिविटी 10  प्रतिशत थी, वह आज घट कर 9 प्रतिशत पर आ गई।

Main
Points
11वें दिन भी लोकसभा में हंगामा रहा जारी
सिर्फ 1 बिल हो सका पेश
प्रोडक्टिविटी रही मात्र 9 प्रतिशत
लोकसभा अध्यक्ष पर उछाले गए कागज़

कितना कार्य हुआ आज सदन में...

प्रश्न काल(question hour) और शून्य काल(zero hour) के दौरान लोकसभा(loksabha) में कोई भी काम नहीं हो सका। विपक्ष लगातार दिल्ली हिंसा पर चर्चा की पुरज़ोर मांग करता रहा।

इस मांग के बीच ही संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी (Pralhad Joshi) ने बिज़नेस एडवाइजरी समिति की 14 वीं रिपोर्ट लोकसभा में पेश की  और साथ ही स्थायी समितियों के वभिन्न विभागों के रिपोर्ट्स भी पेश हुए जिनमें कृषि,  ग्रामीण विकास,  सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण,  स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, परिवहन पर्यटन एवं संस्कृति से सम्बंधित  रिपोर्ट्स शामिल थे।

विधायिका के कार्य के अंतर्गत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmla sitharaman) ने लोकसभा में The Banking Regulation (Amendment) Bill 2020  रखा  जिसे ध्वनि मत से चर्चा के लिये परित कर दिया गया। वित्त मंत्री ने इस बिल कि अहमियत बताते हुये कहा कि यह संशोधन बेहद अहम है।  इस संशोधन के आने से बैंको में  डिपोज़िट बीमा राशि की सीमा 1 लाख से बढकर 5 लाख हो जायेगी। केन्द्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी द्वारा The Aircraft (Amendment) Bill, 2020 लाया जाना था पर वह हंगामे की भेंट चढ़ गया।

राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी व नित्यानंद रॉय द्वारा अपने वक्तव्य सदन में रखे जाने थे और कार्यवाही के दूसरे चरण में  केन्द्रीय बजट पर चर्चा भी होनी थी जो नहीं हो सकी।

किसकी रही कितनी भागीदारी?

लोक सभा के 289  सांसदों द्वारा पूछे गए 351 सवालों में सबसे अधिक सवाल सांसदों ने ‘सहकारियों की कृषि क्षेत्र में भूमिका’ (6) पर पूछा। यही आंकड़े अगर हम मंत्रालयों के आधार पर देखें तो सबसे ज्यादा 104 सवाल कृषि मंत्री से पूछे गए। गृह मंत्री और ग्रामीण विकास मंत्री से क्रमशः 63 और 47 सवाल पूछे गए।

लोकसभा में महिला एवं पुरुष सांसदों की भागीदारी आज भी लगभग बराबर रही। एक तरफ जहां पुरुषों में 58.25 सांसदों ने सवाल पूछे, वहीं महिला सांसदों का प्रतिशत 57.53 रहा। कल की तरह आज भी 12वीं पास सांसद सवाल पूंछने के मामले में अव्वल रहे. 61 में से 45 सांसदों ने सवाल पूछे।

राज्यों में कौन आगे..

राज्यवार स्थिति देखें तो महाराष्ट्र के सांसद आज भी सवाल पूछने में अव्वल रहे। महाराष्ट्र के आगे रहने में सबसे बड़ी भूमिका राज्य के दो प्रमुख दल शिवसेना और NCP की रही। इन दोनों दलों के 80 फीसद सांसदों ने सवाल पूछे।  देश के बड़े राज्यों में शामिल उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, असम का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा। इन राज्यों के 50%  से भी कम सांसदों ने सवाल पूछे। दक्षिणी राज्यों की बात करें तो उनके सांसदों का प्रदर्शन काफी बेहतर रहा। तमिलनाडु (71.79%),  केरल (94.74%), कर्नाटक (68%) भागीदारी के साथ काफी बेहतर स्थिति में रहे। BJP और कॉग्रेस की बात करें तो BJP के 259  में से 143 सांसद तो वहीँ कांग्रेस के 72 फीसदी सांसदों ने सवाल किया। पहली बार सदन में चुन कर आये सांसदों का प्रदर्शन भी कुछ ख़ास नहीं रहा। 250  में से मात्र 159  सांसदों ने ही सवाल किया।

लोकसभा के 11 वें और 12 वें दिन की प्रोडक्टिविटी मात्र 10 व 9 प्रतिशत रही. दूसरे चरण के पहले दो दिन विपक्ष के हंगामे के चलते बाधित रहे। अब देखना यह होगा कि कल लोकसभा में कितना कार्य होता है?

Tags:

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP