Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

कोरोना संक्रमण का खतरा , कैंसर के मरीजों का रखें विशेष ध्यान: APJCP

कोरोनावायरस की वजह से कैंसर के मरीजों पर खतरा और भी ज्यादा बढ़ गया है। एशियन पेसिफिक जर्नल फॉर कैंसर प्रीवेंशन की रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसे मरीजों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है।

Manmeet Singh
Manmeet Singh | 29 Apr, 2020 | 7:22 pm

कोरोना वायरस की वजह से कैंसर के मरीजों पर खतरा बढ़ गया है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस महामारी की वजह से कैंसर मरीजों की जान को ज्यादा खतरा है। इलाज कर रहे चिकित्सकों को उनका विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। एशियन पेसिफिक जर्नल ऑफ़ कैंसर प्रीवेंशन  की रिपोर्ट में यह बातें कहीं गई हैं। दुनिया के तमाम देश इस वक्त लॉकडाउन में है। ऐसे में कैंसर के मरीजों का ख्याल रख पाना एक बड़ी चुनौती है। रिपोर्ट में कहा गया कि मरीज को उसकी दवा जारी रखनी चाहिए और जहां तक संभव हो पूरी एहतियात बरतें साथ ही साथ आईसीएमआर और विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा निर्देशों का पालन भी करें।

Main
Points
कैंसर के मरीजों का रखें विशेष ध्यान
कोरोना से संक्रमित होने का खतरा है अधिक
मरीज रखें अपनी दवाई का पूरा ख्याल
कैंसर की स्थिति को ध्यान में रखकर इलाज की प्रक्रिया में बदलाव संभव

मरीज को दें पूरी जानकारी

रिपोर्ट में कहा गया है कि  कैंसर के मरीज को कोरोनावायरस की पूरी जानकारी दें । उसे मास्क पहनना और हाथ धुलने के लिए प्रेरित करें। चिकित्सक यह सुनिश्चित करें कि मरीज के आसपास  पूरी सफाई हो और अनावश्यक कोई भी मरीज से ना मिले। यदि किसी कैंसर के मरीज में कोरोना के कोई भी लक्षण दिखते हैं तो उसकी फौरन जांच करें।

यदि किसी की सर्जरी होनी है

यदि किसी कैंसर के मरीज की सर्जरी होनी है तो उसे फिलहाल आगे बढ़ाया जा सकता है। चिकित्सक यह फैसला आपसी विचार विमर्श करके  लें। मरीज को होने वाले नुकसान और उसकी सेहत को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए।

कीमोथेरेपी

कीमोथेरेपी की प्रक्रिया को कुछ समय के लिए रोकने या बदलने पर मरीज पर क्या प्रभाव पड़ेंगे  इसके कोई प्रत्यक्ष सबूत तो नहीं है फिर भी स्थिति के मद्देनजर कैंसर की स्टेज को ध्यान में रखकर  यह फैसला लिया जाना चाहिए।कुछ मरीजों को इंट्रावेनस कीमोथेरेपी से दवाइयों पर भी शिफ्ट किया जा सकता है।

इंफेक्शन को बढ़ने से रोकने के लिए कीमोथेरेपी की प्रक्रिया घर पर भी की जा सकती है।

स्टेम सेल ट्रांसप्लांट

यदि किसी कैंसर के मरीज का इलाज स्टेम सेल ट्रांसप्लांट के जरिए होना है तो कोरोनावायरस से उपजी स्थिति को ध्यान में रखते हुए इसे आगे बढ़ाया जा सकता है खासतौर से उस मामले में जब मरीज का इलाज परंपरागत तरीके से संभव हो। सैंपल ट्रांसप्लांट के बाद चिकित्सक सुनिश्चित करें कि मरीज से कोई भी ना मिले और यदि मिलता है तो पहले उसकी जांच अच्छे से होनी चाहिए।

रेडियोथैरेपी

रिपोर्ट के मुताबिक यदि किसी कैंसर मरीज का इलाज रेडियो थेरेपी के जरिए के  हो रहा है तो यह चिकित्सक को तय करना है स्थिति के मुताबिक वह इलाज को रोक दें आगे बढ़ाएं या इलाज में परिवर्तन करें।मरीज को यह सूचना अस्पताल को देनी होगी। चिकित्सक को ही मरीज के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव का भी पूरा आकलन करना होगा।

देखभालकर्ता और मरीज लिए सुझाव

जर्नल में मरीज और देखभाल कर रहे व्यक्ति के लिए भी सुझाव दिए गए हैं:-

● खांसते और छीकते समय मुंह को ढकें

● गंदे हाथों से चेहरे को छूने से बचें

● अपने आसपास सफाई रखें

● लोगों से 1 मीटर की दूरी बनाए रखें

● घर में ही रहें और भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचें

● सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करें

विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा निर्देश

इस संदर्भ में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी कुछ दिशा-निर्देश जारी किए हैं। उसके मुताबिक कैंसर के मरीज को  कोरोना वायरस के मद्देनजर हर संभव एहतियात बरतना है । यदि किसी कैंसर के मरीज को कोरोनावायरस होने का शक है तो उसे बाकी मरीजों से अलग रखें। एरोसॉल पैदा करने वाले वाले चिकित्सीय प्रक्रिया का इस्तेमाल कम से कम करें और मरीज से मिलने से पहले हाथ को साबुन या सैनिटाइजर से 40 सेकंड तक धुले।

क्या करें

● यदि कोई व्यक्ति कैंसर से पीड़ित मरीज से मिलने जा रहा है तो यह सुनिश्चित करें कि उसने हाथ धुले हैं

● यदि कैंसर के मरीज मे कोरोना के लक्षण हैं तो उससे मिलने कोई ना आए

● शारीरिक तौर पर चुस्त-दुरुस्त और एक्टिव रहें

● अपनी दवाइयों का पूरा ख्याल रखें और समय से सेवन करें

क्या ना करें

● एक वक्त में 2 से ज्यादा व्यक्तियों को कैंसर के मरीज से ना मिलने दें

● मरीज से हाथ मिलाने से परहेज करें

● घर परिवार के लोगों से  मरीज को अलग न रखें

गौरतलब है कि कोरोनावायरस अब तक 200 से ज्यादा देशों में फैल चुका है जिससे 25 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और तकरीबन दो लाख लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

Tags:
Cancer   |  Corona   |  journal   |  reportasian   |  pacific

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP