Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

लॉकडाउन 2.0 : जानें कहां मिली छूट, कहां होगी सख्ती!


Ankit Mishra
Ankit Mishra | 15 Apr, 2020 | 5:38 pm

25 मार्च से शुरु हुए लॉकडाउन 1.0 के खत्म होने से 21 दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लॉकडाउन 2.0 की घोषणा करते हुए 3 मई तक के लिए कोरोना से लड़ाई लड़ने की ऐलान कर दिया। पीएम ने अपने संबोधन में ये भी कहा कि केन्द्र सरकार इस पर विस्तृत गाइडलाइन्स भी जारी करेगी। गृह मंत्रालय से जारी गाइडलाइन्स ने लॉकडाउन संबंधी नये नियम जारी कर दिए हैं...जानिए क्या हैं नये नियम-

Main
Points
किसानों को मिलेगी लॉकडाउन में राहत
20 अप्रैल से लागू होंगी सारी छूट
नियमों का पालन नहीं करने वालों के साथ सख्ती से निपटा जायेगा

लॉकडाउन 2.0 और ज्यादा सख्त

लॉकडाउन 2.0 के दौरान नियमों का अनुपालन नहीं करने वाले लोगों के साथ सख्ती से निपटा  जायेगा। नियमों का उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 के प्रावधानों के तहत कार्रवाई होगी। इसके अलावा आईपीसी की धारा 188 के तहत भी कार्रवाई की जाएगी। गाइडलाइन में मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। घर में बना मास्क, दुपट्टा या गमछा भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है। वहीं, इधर-उधर थूकने वालों पर जुर्माने का प्रावधान किया गया है।

किसानों को मिलेगी राहत

ये वक्त देश में रबी फसल की कटाई और नई फसल के बुवाई का है। लॉकडाउन के दौरान अन्नदाताओं को सबसे बड़ी चिंता उनके फसल के बर्बाद होने की थी। प्रधानमंत्री ने भी अपने संबोधन में इसका जिक्र किया था। चूँकि अब भी देश की बड़ी आबादी इस पेशे से जुड़ी है, इस बात को ध्यान में रखते हुए लॉकडाउन में किसानों को सामाजिक दूरी रखते हुए खेतों में काम करने की आज़ादी दी गई है।

इस दौरान कृषि उपकरणों और उनके मरम्मत की दुकानें व खाद, बीज, कीटनाशक, के निर्माण और वितरण की गतिविधियां चालू रहेंगी। फसलों की कटाई का ध्यान रखते हुए कंपाइन मशीनों को एक राज्य से दूसरे राज्य में भी जाने की अनुमति होगी।

दुग्ध और पशुपालन संबंधी छूट

लॉकडाउन के पहले चरण में भी दूध के उत्पादन प्लांट और उसकी आपूर्ति को छूट मिली थी। इस बार भी उसे बरकरार रखा गया है। इसके अलावा मछली पालन से जुड़ी गतिविधियां और ट्रांसपोर्ट चालू रहेंगे। मवेशियों के चारा से जुड़े प्लांट और आपूर्ति भी चालू रहेगी।

उद्योगों को छूट

स्पेशल इकानॉमिक जोन में उत्पादन और दूसरे औद्योगिक संस्थानों के निर्यात से जुड़ी इकाइयों को शर्तों के साथ छूट मिलेगी। कामगारों को अपने परिसर में ही ठहराने और उन्हें कार्य स्थल पर लाने की जिम्मेदारी नियोक्ता की ही होगी। कार्य के दौरान सामाजिक दूरी के मानकों का पालन करना होगा। ग्रामीण क्षेत्र के मजदूरों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में काम करने वाले उद्योगों को भी छूट दी है।

निर्माण कार्यों को मंजूरी

सामाजिक दूरी का पालन करते हुए सड़क के निर्माण और मरम्मत को मंजूरी दी गई है। इस दौरान फ्लैट्स के भी निर्माण जारी रहेंगे। मनरेगा के तहत होने वाले कार्यों को भी छूट मिलेगी। मनरेगा के कार्यों में सिंचाई और जल संरक्षण से जुड़े कामों को प्राथमिकता दी जाएगी।

माल वाहक गाड़ियों चलेंगी

जरूरी सामानों के ट्रांसपोर्टेशन के लिए सभी ट्रकों और माल वाहक गाड़ियों को छूट मिलेगी। हालाँकि, एक ट्रक में 2 ड्राइवरों और एक सहायक की ही इजाजत होगी। इनके सुविधा के लिए गाड़ी मरम्मत की दुकानें और राजमार्गों पर ढाबे खुले रहेंगे।

पहले चरण में जिन जरुरत के सामान (राशन दुकान आदि ) संबंधी दुकानों को छूट मिली थी वह बरकरार रखी गई है। इसके अलावा स्वास्थ्य, बैंक, एटीएम, गैस और तेल से जड़ी सुविधाएं चालू रहेंगी। ई-कॉमर्स कंपनियां, प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया समेत आईटी सेक्टर से जुड़ी कंपनियों को छूट मिली है।

Tags:
Corona   |  Lockdown-2   |  Ind Govt   |  Home ministry   |  Amit Shah

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP