Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

प्लाज़्मा थेरेपी से कोरोना के इलाज के दावों को केंद्र ने नकारा

स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि प्लाज़्मा थेरेपी पर अभी जांच चल रही है और इसे कोरोना का इलाज बताना अनुचित है। उन्होंने यहां तक दावा किया कि थेरेपी के गलत इस्तेमाल से जान तक जाने का खतरा है। स्वास्थ्य सचिव का यह बयान इस लिए भी चौंकाने वाला है क्योंकि प्लाज़्मा थेरेपी के इस्तेमाल से एक मरीज़ के पूर्णतः ठीक हो कर घर जाने की खबरें सामने आ रहीं थी।

Ankit Mishra
Ankit Mishra | 28 Apr, 2020 | 8:02 pm

प्लाज़्मा थेरेपी के इस्तेमाल से कोरोना को हराने की चर्चा अभी देश में चल ही रही थी तभी केंद्र सरकार ने इस चर्चा को खारिज कर दिया। दिल्ली में आज शाम हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य सचिव लव अग्रवाल ने कोरोना संक्रमण का इलाज प्लाज़्मा थेरेपी से होने के दावे को सिरे से नकार दिया। उनके अनुसार इस पद्धति को अभी ICMR द्वारा मंजूरी नहीं मिली है।   

Main
Points
केंद्र सरकार ने खारिज किया प्लाज़्मा थेरेपी से कोरोना के इलाज का दावा
प्रेस कॉन्फ्रेंस कर स्वास्थ्य सचिव लव अग्रवाल ने दी जानकारी
थेरेपी के गलत इस्तेमाल से जान तक जाने का खतरा

स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि प्लाज़्मा थेरेपी पर अभी जांच चल रही है और इसे कोरोना का इलाज बताना अनुचित है। उन्होंने यहां तक दावा किया कि थेरेपी के गलत इस्तेमाल से जान तक जाने का खतरा है। स्वास्थ्य सचिव का यह बयान इस लिए भी चौंकाने वाला है क्योंकि प्लाज़्मा थेरेपी के इस्तेमाल से एक मरीज़ के पूर्णतः ठीक हो कर घर जाने की खबरें सामने आ रहीं थी।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने की थी प्रेस कॉन्फ्रेंस

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने 24 अप्रैल को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दिल्ली में प्लाज़्मा थेरेपी के इस्तेमाल से कोरोना संक्रमितों के इलाज की जानकारी दी थी। इसके बाद से यह थेरेपी चर्चा में आयी थी। अरविन्द केजरीवाल ने बताया था कि लोक नायक जय प्रकाश नारायण ( LNJP ) अस्पताल में चार कोरोना मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का ट्रायल किया गया है और इस इलाज के नतीजे सकारात्मक देखने को मिले है। जिन लोगों पर इसका ट्रायल किया गया, उनमें से दो को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। वहीं बाकि दो ने जल्दी रिकवरी की है।

दिल्ली में मिले सकारात्मक नतीजों के बाद इस थेरेपी को अन्य राज्यों में भी इस्तेमाल में लाया गया है। बिहार, राजस्थान कर्नाटक सहित कई अन्य राज्यों ने ICMR से अनुमति ले इस थेरेपी की सहायता से अपने राज्यों के कोरोना संक्रमितों का इलाज कर रहे हैं।

क्या है प्लाज़्मा थेरेपी

प्लाज्मा थेरेपी में कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों के एंटीबॉडी का इस्तेमाल किया जाता है। यह एंटीबॉडी किसी वायरस या बैक्टीरिया से लड़ने के लिए शरीर में बनता है। यह एंटीबॉडी ठीक हो चुके मरीज के शरीर से निकालकर बीमार शरीर में डाल दिया जाता है। मरीज पर एंटीबॉडी का असर होने पर वायरस कमजोर होने लगता है और मरीज के ठीक होने की संभावना बढ़ जाती है।

Tags:
laz matherapy   |  presscon frence   |  goi   |  Delhi gov

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP