Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

कोरोना के कारण आसमान में भी पसरा सन्नाटा, कई एयरलाइंस कंपनियां हुई बंद!


Suyash Tripathi
Suyash Tripathi | 07 Apr, 2020 | 5:23 pm

कोरोना वायरस का विकराल रुप लेता जा रहा है, इसकी चपेट में भारत में अब तक 4 हजार से ज्यादा लोग आ चुके है और सौ से ऊपर लोगों की अब तक मौत भी हो चुकी है। जिसका खासा असर अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है। पीएम मोदी ने बीते 24 मार्च की रात को कोरोना के चलते यह घोषित किया कि 25 मार्च से देश में 21 दिनों के लिए पूरी तरह से लॉकडाउन होगा और सभी तरह के यातायात भी बंद रहेंगे। इसके बाद सभी उड़ानें 14 अप्रैल तक के लिए बंद कर दी गईं थी। इसका एयरलाइंस पर काफी बुरा असर पड़ा है, क्योंकि देश में एविएशन कारोबार पहले से ही काफी मुश्किल में चल रहा था। लॉकडाउन की वजह से एयरलाइंस कंपनियों की जेबों पर खासा प्रभाव पड़ा है, उनकी कमाई ठप्प हो चुकी है, जबकि हर दिन किराए के रूप में उन्होंने लाखों-करोड़ों रुपये खर्च करने पड़ रहे है।

Main
Points
एअर इंडिया ने अपने 200 पायलटों का कॉन्ट्रैक्ट किया सस्पेंड
एयर डेक्कन ने अपना कामकाज किया बंद
एयरलाइंस सेक्टर जीडीपी में 72 बिलियन डॉलर का देता है योगदान

एवीएशन से जुड़ी कम्पनियों की हालत बदतर

कई एयरलाइंस कंपनियों ने कोरोना के चलते सख्त कदम उठाए हैं, लगभग सभी एयरलाइंस ने अपने कर्मचारियों के वेतन में कटौती की है, एअर इंडिया ने अपने 200 पायलटों का कॉन्ट्रैक्ट भी सस्पेंड कर दिया है। एयर डेक्कन ने अपना कामकाज तक बंद कर दिया है। कंपनी ने अपना कामकाज बंद कर कर्मचारियों को बिना वेतन के छुट्टी पर भेज दिया है। कामकाज पूरी तरह से बंद करने वाली एयर डेक्कन पहली भारतीय एयरलाइंस है। एयर डेक्कन एक क्षेत्रीय एयरलाइंस है और मुख्यत: गुजरात जैसे पश्चिमी राज्यों में संचालित होती है। हालांकि कंपनी ने यह भी कहा है कि अगर कोरोना का असर खत्म होने के बाद हालात सुधरे और कामकाज फिर से शुरू किया तो पुराने कर्मचारियों को नौकरी पर वापस रख लिया जाएगा। एयर डेक्कन के पास 18 सीटों वाले महज चार छोटे विमान हैं। कोरोना की वजह से वह दबाव नहीं झेल पाई और उसे अपना कामकाज बंद करना पड़ा।

एयर डेक्कन ने किया कामकाज बंद

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक एयर डेक्कन के सीईओ अरुण कुमार सिंह ने कर्मचारियों को भेजे ई-मेल में कहा, ‘मौजूदा घरेलू और वैश्विक मसलों की वजह से नगर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने 14 अप्रैल तक सभी कॉमर्शियल उड़ानें बंद करने का निर्देश दिया है। ऐसे में एयर डेक्कन के पास अगले नोटिस तक अपना कामकाज बंद करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘भारी मन से मुझे यह सूचित करना पड़ रहा है कि एयर डेक्कन के सभी स्थायी, अस्थायी और ठेका कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से बिना वेतन के छुट्टी पर भेजा जा रहा है।’

2 बिलियन डॉलर के नुकसान का आंकलन

भारतीय विमानन क्षेत्र राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 72 बिलियन डॉलर का योगदान देता है। भारतीय विमानन क्षेत्र को मौजूदा लॉकडाउन की वजह से लगभग 1.5 बिलियन डॉलर से 2 बिलियन डॉलर तक का नुकसान हो सकता है। विडंबना यह है कि कोविद -19 महामारी की वजह से तेल की कीमतों में भारी कमी आई थी, जिसके परिणामस्वरूप विमानन उद्योग को बढ़ना चाहिए थी, लेकिन दुनिया भर में लॉकडाउन के कारण इस क्षेत्र को बुरी मार झेलनी पड़ रहा है।

Tags:
Corona pandemic   |  Corona effect   |  airlinessector   |  Air India   |  Air Deccan   |  GDP   |  Lockdow

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP