Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

महिलाओं से अधिक पुरुषों को क्यों टारगेट कर रहा है कोरोना?


Archna Jha
Archna Jha | 13 Apr, 2020 | 11:16 am

वर्तमान में दुनिया भऱ में कोरोना वायरस पर कई शोध चल रहे हैं। जिनसे नए और चौंका देने वाले परिणाम निकल कर सामने आ रहे हैं। हाल ही में पता चला कि अब कोरोना वायरस, संक्रमितों के नर्वस सिस्टम को भी प्रभावित कर रहा है। फिर पता चला कि कोरोना पीड़ितों का एक समूह ASYMPTOMATIC है। यानि वह कोरोना पीड़ित तो हैं, पर उनमें कोरोना के लक्षण नज़र नहीं आ रहे हैं। इसी प्रकार ग्लोबल हेल्थ 50/50 ने कोविड-19 के शिकार होने व जान गवांनें वालों पर रिसर्च कर यह तथ्य प्रस्तुत किये हैं, कि कोरोना महामारी ने महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अपना शिकार अधिक बनाया है।

Main
Points
ग्लोबल हेल्थ 50/50 ने पेश किए आश्चर्यजनक आंकड़े
कोरोना वायरस के संक्रमण में देखी जा रही है लैंगिक असमानता
महिलाओं की अपेक्षा पुरुष हुए अधिक प्रभावित
धुम्रपान, वसन, अधिक ट्रेवल, अपेक्षाक़ृत ज्यादा जांच होना माने जा रहे हैं, इस असमानता का कारण

इटली के नेशनल हेल्थ इंस्टीट्यूट के जारी आंकड़ों से यह बात सामने आई कि कोरोना पोज़ेटिव केसों में 60% पुरुष हैं, जबकि केवल 23% ही महिलाएं हैं। इसी प्रकार कोरोना मृतकों में 70% पुरुष हैं, जबकि महिलाएं केवल 20% प्रतिशत ही हैं।

चाइनीज़ सेंटर आँफ डिज़ीज़ कन्ट्रोल की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस से संक्रमिक 44 हज़ार लोगों में ही 2.8% पुरुषों की मौत हुई हैं, जबकि महिलाओं की मृत्यु दर केवल 1.7% है।

वहीं भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने  इस संदर्भ में आंकड़े प्रस्तुत किये। जिसके अनुसार कोरोना वायरस का संक्रमण जहां पुरुषों में 76% है , महिलाओं में 24% की पुष्टि की गई है। मृतकों के आंकड़े पेश करते हुए बताया गया है कि- अब तक 73% संक्रमित पुरुषों की मौत हुई है , जबकि 27% संक्रमित महिलाओं ने जान गंवाई है। 

इस स्थिति को राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान ने एक उदाहरण के ज़रिये कुछ देशों में मृत्यु दर के आंकड़े देते हुए समझाया है। अगर इटली में कुल 34 मौतें हुईं हैं, तो उसमें महिलाएं 10 हैं, तो 24 पुरुष। चीन में यदि 14 महिलाएं हैं, तो 20 पुरुष।जर्मनी में 16 महिलाएं, तो 18 पुरुष। ईरान में 14 महिलाएं, तो 20 पुरुष। फ्रांस में 13 महिलाएं, तो 21 पुरुष। इसी प्रकार दक्षिण कोरिया में 10 महिलाएं, तो 12 पुरुषों की मृत्यु हुई है।

यू,टी.साउथ वेस्टर्न मेडिकल सेंटर, टैक्सस् के प्रमुख डा, पर्ल ने इस विषय में कहा कि कोरोना वायरस से होने वाले संक्रमण व मौतों में दिखने वाली लैगिंक असमानता कोई नई बात नहीं है। इससे पहले यह स्थिति SARS (SEVERE  ACUTE  RESPORATRY  SYNDROME)  और MERS ( MIDDEL  EAST  RESPORATORY SYNDROME) जैसी वैश्विक महामारियों के दौरान भी देखी गईं थीं।जिसमें महिलाओं की तुलना में पुरुष अधिक संक्रमित हुए थे।

पुरुषों के अधिक संक्रमित होने के कारण क्या हैं

हालांकि इस संदर्भ में अभी तक वैज्ञानिकों ने कोई विशिष्ट आंकड़े तो नहीं पेश किये हैं, लेकिन कुछ कारणों को लगभग सभी ने दोहराया है। जैसे- 

महिलाओं की तुलना में पुरुषों का अधिक धूमपान करना, शराब पीना। जो की उनके महत्वपूर्ण शारीरिक अंगों, विशेषकर फेंफड़ों को प्रभावित करता है, इम्यून लेवल कम करता है। जबकि शोधों से यह साबित हो चुका है कि कोरोना उन लोगों पर अधिक असर कर रहा है, जिनमें रोग-प्रतिरोधक क्षमता कम है।

चीन में सबसे ज्यादा स्मोकिंग करने वाले लोग हैं। जहां 50% पुरुष हैं, तो केवल 3% महिलाएं। इसी प्रकार इटली में 70 लाख पुरुष धुम्रपान करते हैं, तो 45 लाख महिलाएं। दरअसल इटली में कोविड-19 से मरने वाले 90% लोगों को पहले से ही हाई ब्लड प्रैशर था। तीसरी बात, पुरुष महिलाओं की अपेक्षा अधिक ट्रैवल करते हैं और कई लोंगों के संपर्क में आते हैं। जिससे संक्रमण होना तय है। साथ ही यह सच भी अनदेखा नहीं किया जा सकता कि महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों के टेस्ट अधिक हो रहे हैं।

जर्नल आँफ इम्यूनोलोजी के मुताबिक महिलाओं मे पाया जाने वाला हार्मोन एस्ट्रोजन औरतों के इम्यूनिटी लेवल को बढ़ाता है। जिसके चलते महिलाएं किसी भी फ्लू के लिए बेहतर एंटी बाँडी का उत्पादन करती हैं।

Tags:
Covid 19   |  global   |  health   |  report   |  Corona Virus   |  seemsaf   |  fected   |  moremale   |  lessfemale

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP