Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

कोरोना के कहर से कैसे बचे दुनिया के दूसरे देश, जानिए बचने का कारण!


Archna jha
Archna jha | 02 Apr, 2020 | 4:52 pm

तमाम एहतियातों के बाद भी दुनिया भर में कोरोना का कहर थमने का नाम नही ले रहा है। संक्रमण की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। हाल ही में, अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने कोरोनावायरस के अपडेट के लिए दुनिया का सबसे बढ़ा डेटाबेस तैयार किया है। ज्यादातर मीडिया संस्थान एंव सरकारें इस डेटाबेस का इस्तेमाल कर रही हैं। जिसके मुताबिक, वर्तमान में दुनिया के 193 देशो में कोरोनावायरस के 8.59 लाख केस आ चुके हैं औऱ 130 देशों में 42,431 लोगों की जान गई है। इसी डेटाबेस के मुताबिक कुछ देश ऐसे भी हैं ,जहां कोरोना का एक भी केस सामने नही आया है।

Main
Points
अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने पेश किया कोरोना अपडेट का डेटाबेस
यूरोप की तुलना में अफ्रीका महाव्दीप में कोरोना के अपेक्षाकृत कम मामले
दक्षिण अफ्रीका ने समय रहते उठाये तमाम सक्रिय कदम
अफ्रीका के 21 देशों में 10 से भी कम और 16 देशों में 5 से भी कम कोरोना के मामले

उत्तर कोरिया कैसे बचा!

अचम्भे की बात है कि उत्तर कोरिया की सीमा, चीन और दक्षिण कोरिया जैसे देशों से लगी हुई है। जबकि इन दोनों देशों ने ही सबसे पहले पूरी दुनिया में कोरोना वायरस फैलने की शुरूआत की थी। इस संदर्भ में उत्तर कोरिया का कहना है क्योंकि वह पूरी दुनिया से कटा हुआ है इसलिए यहां कोरोना वायरस का संक्रमण नही पहुंच पाया है।

अफ्रीका के भी कई देश भी बचे हैं

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के 31 मार्च तक के डाटा के अनुसार अफ्रीका के कई ऐसे देश हैं, जहां कोरोना वायरस का अब तक एक भी मामला सामने नहीं आया है। ये देश हैं- बोत्सवाना, तुर्केमिन्सतान, तज़ाकिस्तान, यमन ,कोमोरोस, मलावी, साओ तोमें एंड प्रिंसपी, दक्षिण सुडान हैं। अन्य कुछ छोटे आईलैंड भी कोरोना की मार से अछूते हैं। इनमें सोलोमन आइसलैंड़, वानूआतो शामिल हैं।

इन 21 देशों में अभी 10 से कम केस हैं-

सीरिया, इस्वातिनी, ग्रेनादा, सेंट लुसिया,गुयाना लाओस,लीबिया,मोज़ाबिक,सेशल्स,सूरीनाम,अंगोला,एंटीगुआ और बरमुडा,गैबोन,सैंट कीट्स एंड नेविस, जिम्बावें, बेनिन, काबोवरदे, होली सी,सूडान,माउरीटैनिया।

वहीं 16 देश ऐसे भी हैं जिनमें 5 से भी कम कोरोना को मामले हैं –

चाड, फिज़ी, नेपाल ,भूटान ,गांबिया ,निकारगुआ ,बेलिजी, बोत्सवाना, सेंट्रल अफ्रीका,लाईबेरिया,सोमालिया,पापुआ न्यु गिनी,सेंट विटेंस एंड ग्रीन डिनेस, सिथरा लियोन।

ये बेशक ही हैरान करने वाली बात है कि विश्व के 193 देशों में पैर पसार चुका कोरोना अपेक्षाकृत कम संपन्न माने जाने वाले अफ्रीकी देशों में दुनिया के बाकी हिस्सों की तरह ताडंव नहीं मचा रहा है । अफ्रीका का पहला कोरोना पाज़िटीव केस 14 फरवरी 2020 को इजिप्ट से सामने आया, वहीं सहारा में पहला पाज़िटीव केस 9 मार्च को सामने आया। WHO के मुताबिक 19 मार्च तक अफ्रीका के 54 देशों में से 36 देशों में कोविड-19 के 733 मामले सामने आये ,जिनमें से 16 लोगों की जान गई थी। जो अब बढ़कर 43 देश और 1400 लोग हो चुके हैं । जो की अभी भी अन्य महाव्दीपों की तुलना में अपेक्षाकृत कम हैं।

इस वजह अफ्रीका में कोरोना मामलों की कमी-

1. अफ्रीका के कई देशो ने अपनी सीमाओं को बंद कर दिया है।

2. लोगों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध बहुत पहले ही लगा दिया है।

3. सोनेगल ने अपनी हवाई सीमाओं को बंद कर दिया है।

4. अंगोला और कैमरुन ने अपने हवाई ,ज़मीनी और समुद्री रास्तों को बंद कर दिया है ,रवांडा ने एक महीने के लिए अपनी सभी उड़ानो को बंद कर दिया है।

5. जिम्बावे के साथ लगती अपनी सीमाओं को सील करने के लिए दक्षिण अफ्रीका 40 किमी लम्बी बाढ़ लगा रहा है ,जिससे अप्रवासियों का प्रवेश के साथ कोरोना का संक्रमण भी बंद हो सके।

6. नाइजीरिया ने चीन और अफ्रीका सहित 13 देशो से आने वाले यात्रियों के प्रवेश पर बैन लगा दिया है।

7. सोमालिया में दो सप्ताह के लिए सभी संस्थान बंद हैं।

8. कहीं न कहीं अफ्रीकी देशों में गर्म जलवायु का होना भी कोरोना संक्रमण को रोकने में मददगार साबित हो रहा।

9. वैज्ञानिकों के अनुसार क्योंकि यह वायरस बुज़ुर्गो को अपनी चपेट में अधिक ले रहा है और अफ्रीका में यूरोप की तुलना में युवा आबादी अधिक है।

वैज्ञानिकों के अनुसार कोविड-19 एक फ्लु वायरस है और विशेष तौर पर यह वायरस ठंडें और शुष्क माहौल में पनपता है और जिन देशों में तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से अधिक होगा वहां इसका प्रभाव कम होगा। जो की कहीं न कहीं दुनिया के लिए एक अच्छी खबर है।

Tags:
Covid 19   |   corona penedemic   |  african countries   |  21countries   |  lesscases   |  safety measure

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP