Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

कोरोना के साथ मौसम की मार झेलने को मजबूर हुआ अन्नदाता, मौसम ने फसल तो कोरोना ने बर्बाद की मेहनत

भारतीय मौसम विभाग की अधिसूचना, आने वाले दिन और बढ़ाएंगे किसानों की मुश्किलें

Archna Jha
Archna Jha | 22 Apr, 2020 | 5:02 pm

हाल ही में भारतीय मौसम विभाग ने आने वाले हफ्ते में 21 से 24 अप्रैल के बीच कईँ राज्यों मे तेज़ बारिश के साथ ओलावृष्टि का अनुमान जताया है। ऐसे में किसानों पर कोरोना और अचानक मौसम में आये बदलाव जैसी दोहरी मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। ऑल इंडिया रुरल फाइनैंशियल इन्क्लूज़न सर्वे, NABARD के मुताबिक वर्तमान में भारत की लगभग 77% आबादी कृषि पर निर्भर है जिसमें एक किसान परिवार की मासिक आय केवल 8931 रुपये है जो की कोरोना के चलते लॉकडाउऩ की वजह से पहले ही प्रभावित हो चुकी है। ऐसे में, न केवल किसान बल्कि उनके पालतू मवेशियों के लिए भी खाना जुटाना चुनौतीपूर्ण होता जा रहा है।

Main
Points
इंड़ियन मैट्रोलोजिकल डिपार्टमेंट ने आने वाले दिनों में जताया बारिश और ओलावृष्टि का अनुमान
किसानों पर पड़ रही कोरोना और बेमौसम बारिश की दोहरी मार
लॉकडाउन की वजह से फसलों की कटाई में हुई देरी के चलते खेतों में खड़ी फसले सूख रही हैं
किसानों की नियमित मासिक आय भी हुई प्रभावित
कोरोना और बारिश के चलते किसानों को मिले मुआवज़ा- एग्रीकल्चर एक्सपर्ट

मौसम में बदलाव कैसे कर रहा किसानों को परेशान

बता दें कि मार्च के पहले हफ्ते में हुई बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि  पहले ही रबी की फसल को नष्ट कर चुकी थी, फिर कोरोना के चलते लॉकडाउन की वजह से खेतों में पकी हुई फसलों के कटने में देरी हुई जिसका असर ये हुआ कि कईं हेक्टेयर तक फैली फसलें वहीं सूख कर झड़ गईं। साथ ही मौसम विभाग के इस पूर्वानुमान ने जैसे किसानों के लिए संकटों की झड़ी लगा दी है। बारिश की वजह से फसलों में आई नमी के कारण भी फसल मंड़ी में नही बिक पा रही है।

इतना ही नही छोटे किसानों के पास जगह की कमी और लॉकडाउन के चलते कम मात्रा में फसल बिकने जैसे नियमों ने किसानों को बेबस कर दिया है। ऐसे में किसानों का कहना है-“इस बारिश और कोरोना की मार ने हमारे हालात और बद्दतर कर दिए हैं, हमारी आधी फसल पहले ही बारिश की वजह से नष्ट हो चुकी है उस पर लॉकडाउन और मौसम विभाग की इस खबर ने न केवल किसानों बल्कि इस क्षेत्र में काम कर रहे मज़दूरों की मुश्किलें भी बढ़ा दी हैं। सरकार से अनुरोध है कि वह हमारी मदद करे वरना हम क्या खाएंगें”।

इस बारे में एग्रीकल्चर एक्सपर्ट डॉक्टर जसविंदर सिंह का कहना है-“वर्तमान हालातों में किसानों को कोरोना और मौसम की मार से बचाने के लिए आवश्यक है कि राज्य सरकारें उनके नुकसान की भरपाई कर उन्हे प्रोत्साहित करें”। बता दे कि मौसम विभाग के बताये गए राज्यों में हरियाणा, पंजाब, उत्तरप्रदेश और पूर्वोत्तर के राज्य मुख्य रुप से शामिल हैं।

Tags:
Corona   |  Indian metro   |  logicalde partment   |  heav yrain   |  forecast   |  affecte,dcro

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP