Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

भयंकर ख़तरा मंडरा रहा है मुम्बई पर, धारावी में बढ़ा तो ख़तरा सँभालना होगा मुश्किल


Suyash Tripathi
Suyash Tripathi | 03 Apr, 2020 | 5:46 pm

भारत में कोरोना दिन प्रति दिन अपने पैर पसारता जा रहा है। कुल 2301 लोग अब तक कोरोना की चपेट में आ चुके हैं तो वहीं अब तक 56 लोगों की जान भी जा चुकी है।

Main
Points
धारावी में अबतक तीन कोरोना के केसों की हुई पुष्टी
3 दिन के नवजात शिशु को कोरोना पॉजिटिव पाया गया
56 वर्षीय कपड़ा दुकान के मालिक की हो चुकी है मौत
घनी आबादी वाला स्लम है धारावी
राज्य के स्वास्थ्य विभाग में करीब 17 हजार पद हैं रिक्त

धारावी में अब तक तीन कोरोना संक्रमित पाये गये

सरकार की मानें तो भारत के किसी भी राज्य में कोरोना अब तक तीसरे स्टेज में दाखिल नहीं हुआ है लेकिन आंकड़े दूसरी तस्वीर ही बयां कर रहे हैं। ऐशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में कोरोना ने अपना कहर बरपाना शुरु कर दिया है। धारावी में अबतक तीन कोरोना के केसों की पुष्टी हुई है जिसमें से 1 अप्रैल को 56 वर्षीय कपड़ा दुकान के मालिक की मौत भी हो चुकी है। धारावी से ही 24 घंटे के भीतर दो नए केस भी सामने आए हैं। गुरुवार सुबह नगर निगम के एक सफाई कर्मी को कोरोना पॉजीटिव पाया गया, यह सफाई कर्मी वर्ली का रहने वाला है जो धारावी में तैनात था। गुरुवार को 35 वर्षीय एक डॉक्टर को भी धारावी में ही कोरोनो पॉजिटिव पाया गया, यह डॉक्टर धारावी में मुख्य सड़क पर एक क्लिनिक चलाता था। डॉक्टर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उनके परिवार के लोगों को क्वारंटीन में भेज दिया गया है।गुरुवार को बीएमडब्ल्यू के अधिकारी ने बताया कि "उनके परिवार को क्वारंटीन में रखा गया है तथा उनका कोरोना टेस्ट भी किया जा रहा है, डॉकटर के सम्पर्क में आए लोगों की भी तलाश हो रही है तथा उनकी ट्रैवल हिस्ट्री की भी जानकारी इकट्ठा की जा रही है।”

धारावी में कोरोना फैला तो मुम्बई का होगा हाल बेहाल

बता दें कि धारावी में कोरोना का इतनी तेजी से संक्रमण काफी खतरनाक है, क्योंकि यहां दस लाख से अधिक लोग रहते है। धारावी में प्रति वर्ग मील 8.69 लाख लोग रहते है। इतनी घनी आबादी और उचित संसाधनों की कमी की वजह से धारावी में कोरोना आग की तरह फैल सकता है जिससे कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुंचने की संभावनाएं भी बढ़ सकती हैं।इससे पहले 26 मार्च को मुंबई में 3 दिन के नवजात शिशु को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। 26 मार्च को चेम्बूर के एक निजी अस्पताल में डिलिवरी का एक केस आया, डिलिवरी के बाद मां बेटे दोनों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। निजी अस्पताल पर आरोप लगाते हुए बच्चे के पिता ने कहा कि उनकी पत्नी को कोरोना मरीज के बगल में बेड दिया गया था, जिसके कारण उनकी पत्नी और बच्चे में कोरोना का वायरस पहुंचा। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र में अबतक 335 कोरोना पॉजिटिव केसों की पुष्टि की गई है जिसमें मरने वालों की संख्या 13 के आंकड़े पर पहुंच गई हैं।

कोरोना की महामारी, ऊपर से स्वास्थकर्मी ही नहीं!

हालाँकि महाराष्ट्र सरकार कोरोना वायरस के थर्ड फेज में जाने पर पैदा होने वाली तमाम मुश्किलों से मुकाबले की तैयारी में जुट गई है, लेकिन यहां जो सबसे बड़ी दिक्कत होने वाली है, वह यह है कि राज्य के स्वास्थ्य विभाग में करीब 17 हजार पद रिक्त पड़े हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि जो पद खाली पड़े हैं, उनमें हेल्थ डायरेक्टर, अडिशनल हेल्थ डायरेक्टर, असिस्टेंट डायरेक्टर, डेप्युटी डायरेक्टर और विशेषज्ञ डॉक्टरों के पद भी शामिल हैं। ऐसे में एक हल्की सी चूक भी महाराष्ट्र के लोगों के लिए परेशानी का सबब वन सकती है।

Tags:
Corona   |  Corona pandemic   |  Dharavislum   |  mumbai   |  cornastage-3   |  maharastra gova

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP