Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

कोरोना से लड़ने के लिए सरकार ने खोला ख़ज़ाना, जाने किसे क्या मिला!


Parliamentary Business Team
Parliamentary Business Team | 26 Mar, 2020 | 12:00 am

लॉकडाउन के 36 घंटे के बाद वित्तमंत्री निर्मला सीतारमन ने कोरोना वायरस जैसी महामारी और उसके आर्थिक प्रभाव से निपटने को लेकर अब राहत पैकेज का एलान किया। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा कर दी गयी है। ये पैकेज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यालय, वित्त मंत्रालय और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के बीच विचार-विमर्श करके जारी किया गया है। 1.70 लाख करोड़ रुपए की राशि ज़रूरतमंदों की मदद और सहायता के लिये दी जा रही है। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमन बहुत सारी बातों का इस पैकेज में ध्यान रखते हुए सभी वर्ग के लोगों की सहायता के लिए यह अहम कदम उठाया है।

इसके साथ ही वित्तमंत्री ने कोरोना वायरस जैसी महामारी से निपटने के लिये सभी स्वास्थ्य कर्मियों और डॉक्टरों के लिये भी 50 लाख रुपये रक़म की बीमा कवर की घोषणा की है। आपको बता दे की सरकार ने आम जनता के लिए भी कुछ बंदोबस्त की है जिसमें सबसे पहले तो कोरोना कमांडो यानि डॉक्टरों को 50 लाख का मेडिकल इंश्योरेंस कवर दिया जाएगा। इसके साथ ही प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 80 करोड़ लोगों की जो संख्या सामने आयी है उसमें यह सुनिश्चित किया जाएगा कि एक भी व्यक्ति बिना भोजन के न रहे। हर एक व्यक्ति को 5 किलो तक चावल और गेहूं अतिरिक्त बाँटा जाएगा। इसी वर्ग के सभी लोगों को यह खाने की चीजें अगले तीन महीने तक मुहैया करायी जाएगी।

Main
Points
1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा कर दी गयी है
सभी स्वास्थ्य कर्मियों और डॉक्टरों के लिये 50 लाख रुपये रक़म का बीमा कवर
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 80 करोड़ लोगों को ३ महीनो तक 5 किलो चावल और गेहूं बाँटा जाएगा
किसानों को 8 करोड़ 70 लाख का फायदा मिलेगा

यहाँ तक की 50 लाख का लाइफ इंश्योरेंस उन लोगों को भी दिया जाएगा जो चिकित्सा के क्षेत्र में इस कारोना वायरस जैसी महामारी होने के बाद भी दिन रात सभी बीमार लोगों के लिए काम कर रहे हैं। किसानों के लिए भी राहत उपलब्ध कराए जाने का फ़ैसला किया गया है जिसमें किसानों को 8 करोड़ 70 लाख का फायदा मिलेगा, यह राहत पैकेज किसानों को अप्रैल के पहले हफ्ते में ही उनके अकाउंट में ट्रांसफर कर दी जाएगी जो की  2 हजार रुपए की किस्त होगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को 21 दिन तक के लिए पूरे तरीक़े से लॉकडाउन कर दिया, जो कोरोनोवायरस से लड़ने के लिए एक मात्र कठिन और जरूरी फ़ैसला था। भारत में इस बीमारी के ग्रसित 600 से अधिक पृष्ट मरीज है।

प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को रात 8 बजे के भाषण में तीन सप्ताह के बंदी की घोषणा की, जिसे प्रत्येक भारतीय ने माना, दोनो सूत्रों ने बताया कि सरकार ने वित्तीय वर्ष 2020 -21 के लिए अपनी उधार योजना को भी बढ़ा दिया है, जो 1 अप्रैल से शुरू हो रही है, वर्तमान में जो 7.8 ट्रिलियन रुपये की सकल नियोजित उधारी है।

सूत्रों से पता चला कि सरकार द्वारा जारी किए गए सरकारी प्रतिभूतियों ( गवर्नमेन्ट सिक्योरिटी) में से कुछ को खरीदने के लिए केंद्रीय बैंक से कहा था, जो मुद्रास्फ़ीति की आशंका के कारण भारतीय केंद्रीय बैंक ने दशकों तक नही किया । पहले सरकारी अधिकारी ने कहा 'आरबीआई को दुनिया के अन्य केंद्रीय बैंकों की तरह ही बॉन्ड खरीदना होगा, वही दूसरे सरकारी अधिकारी का कहना था कि सरकार केंद्रीय बैंक के तरीकों और साधनों का उपयोग भी कर सकती है। आर.बी.आई देश को एक ओवरड्राफ्ट सुविधा प्रदान करता है - अगर यह नकद संकट का सामना करता है तो।

Tags:

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP