Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

क्या है iGOT प्रशिक्षण मॉड्यूल? कोरोना से लड़ाई में कैसे होगा मददगार?


Manmeet Singh
Manmeet Singh | 10 Apr, 2020 | 11:21 am

भारत सहित दुनिया के तमाम देश कोरोना से दो-दो हाथ कर रहे हैं। मानक के अनुसार भारत की स्वास्थ्य  व्यवस्था औसत से भी नीचे है। ऐसे में कोरोना से लड़ाई नांको चने चबाने जैसा है। कोरोना से लोहा ले रहे अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं की प्रशिक्षण जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार ने मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय के प्लेटफार्म DIKSHA के तहत  iGOT प्रशिक्षण मॉड्यूल को लॉन्च किया है।

Main
Points
भारत सरकार ने लांच किया iGOT मॉड्यूल
कोरोना योद्धाओं को देश भर में मिलेगा प्रशिक्षण
कोरोना से लगातार लड़ाई लड़ने के लिए टीमें होंगी तैयार

क्या है iGOT प्रशिक्षण मॉड्यूल!

दिन-प्रतिदिन भारत में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं जिनके अनुपात में भारत के पास पर्याप्त स्वास्थ्य ढांचा उपलब्ध नहीं है। उपलब्ध संसाधनों  की मदद से  हमारे स्वास्थ्यकर्मी सहित तमाम कोरोना वायरस योद्धा पूरी निष्ठा के साथ अपनी जिम्मेदारियों को अंजाम दे रहे हैं। लेकिन कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए यह नाकाफी है।

वर्तमान में जो भी चिकित्सक, नर्स,सफाई कर्मचारी,पुलिस और अन्य प्रशासन के लोग करोना से जंग में जुटे हुए हैं, आने वाले दिनों में उनके बदले इस मॉड्यूल की मदद से प्रशिक्षित कर तैयार की गयी नयी टीम को मोर्चा सौंपने  में मदद मिलेगी। यह मंच फ्लेक्सिटाइम और साइट के आधार पर प्रशिक्षण मॉड्यूल प्रदान करेगा ताकि महामारी से निपटने के लिए आवश्यक कार्यबल को बड़े पैमाने पर वितरित किया जा सके।

किसके लिए लांच हुआ यह प्रशिक्षण मॉड्यूल

भारत सरकार ने यह प्रशिक्षण मॉड्यूल चिकित्सक, नर्स, सफाई कर्मचारी, राज्य सरकार कर्मचारी, ANM, विभिन्न प्रकार के पुलिस संगठन, राष्ट्रीय सेवा योजना, राष्ट्रीय कैडेट कोर, नेहरू युवा केंद्र संगठन, भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी, भारतीय स्काउट एंड गाइड अन्य सहायक कर्मियों के लिए लॉन्च किया गया है।

कितना कारगर साबित होगा मॉड्यूल

लगातार काम करने से व्यक्ति की प्रोडक्टिविटी कम हो जाती है और किसी भी कार्य में वह अपना शत-प्रतिशत योगदान नहीं दे पाता। इस मॉड्यूल की मदद से भारत का स्वास्थ्य ढांचा और मजबूत होगा। कोरोनावायरस का इलाज और प्रभावी तरीके से किया जा सकेगा। अगर इस मॉड्यूल का समय रहते पूर्ण इस्तेमाल किया गया तो वर्तमान में कोरोना वायरस का इलाज कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों के लिए यह एक बड़ी सहायता साबित होगी।

आपको बता दें कि भारत में अब तक कोरोना संक्रमण के 5734  मामले सामने आ चुके हैं जिनमें 166 की मौत हो चुकी है तो वही 472 मरीजों का सफल इलाज हुआ है।

Tags:
iGOT   |  Coronawarriors   |  Corona   |  Covid-19

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP