Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

भाजपा ने दिया मौका, कांग्रेस ने मारा चौका !

देश भर के तमाम मज़दूर पिछले 40 दिन से अपने घर जाने के लिए तड़प रहे थे । इसी के मद्देनज़र रेलवे ने पिछले दिनों देश भर के तमाम हिस्सों में फंसे मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशन चलाई । पर सवाल था कि इसका खर्च कौन वहन करेगा ? केंद्र सरकार या राज्य सरकार ? इसी बीच रेलवे ने कुछ गाइडलाइन्स जारी करते हुए साफ कर दिया कि किसकी क्या जिम्मेदारी होगी। रेलवे ने उन गाइडलाइन्स में साफ कहा कि रेल किराए का बोझ राज्य वहन करेंगे और वह ये किराया यात्रियों से वसूल कर के रेलवे को सौंपेंगे।

Abhishek Dubey
Abhishek Dubey | 04 May, 2020 | 6:15 pm

यहां से ही शुरू हुआ केंद्र सरकार की आलोचनाओं का दौर, जिस पर खूब राजनीति हुई। आखिरकार केंद्र सरकार को भी इसमें कूदना ही पड़ा ।

केंद्र सरकार और रेलवे ने दिया मौका 

Main
Points
नासिक से भोपाल के लिए वसूला गया 315 रुपए प्रति यात्री ।
रेलवे के किराया वसूलने वाली चिट्ठी से मचा बवाल
भाजपा से हुइ बड़ी चुक
गरीबों की बात करने वाली सरकार गरीबों के खिलाफ हो गई

रेल किराए पर जो राजनीतिक बवाल मचा है, उसका मौका खुद केंद्र सरकार ने ही दिया है। रेलवे ने ही अपनी गाइडलाइंस में साफ-साफ कहा था कि किराया राज्यों द्वारा यात्रियों से वसूला जाएगा और फिर रेलवे को सौंपा जाएगा। न तो रेलवे ना ही केंद्र सरकार के किसी मंत्री ने ये सोचा कि जो मजदूर पहले से ही सरकारी सहायता के तहत खाना खा रहे हैं, वह किराए के पैसे कहां से लाएंगे। वैसे भी श्रमिक ट्रेन कमाई करने के लिए नहीं, बल्कि बचाव और राहत कार्य के लिए चलाई जा रही हैं।

कांग्रेस ने तुरंत भुनाया मौका

केंद्र सरकार ने कांग्रेस को रेल किराए पर राजनीति करने का एक मौका दिया, जिसे सोनिया गांधी ने तुरंत भुना लिया। उन्होंने कहा कि जो मजदूर देश की रीढ़ हैं, इस मुश्किल घड़ी में उन्हें हर मदद दी जानी चाहिए, इसलिए कांग्रेस ने फैसला किया है कि मजदूरों का रेल किराया कांग्रेस वहन करेगी। इससे पहले राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर सवाल भी उठाया कि जब गुजरात में एक कार्यक्रम के लिए सरकार 100 करोड़ रुपये ट्रांसपोर्ट और खाने के नाम पर खर्च कर सकती है, रेलवे 151 करोड़ रुपए पीएम कोरोना फंड में दे सकती है तो मजदूरों के मुफ्त रेलयात्रा क्यों नहीं करा सकती?

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी की आलोचना

सोनिया गांधी के विरोध के बाद भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा- 'भारत सरकार की यह कैसी संवेदनहीनता है कि भूखे-प्यासे प्रवासी मज़दूरों से रेल किराया वसूल रही है! जो भारतीय विदेशों में फंसे थे उन्हें फ्लाइट से मुफ़्त में वापस लाया गया। अगर रेलवे अपने फ़ैसले से नहीं हटती है तो पीएम केयर्स के पैसे का इस्तेमाल क्यों नहीं किया जा रहा है?'

आखिर खुद भाजपा को देनी पड़ी सफाई

रेल किराए को लेकर मोदी सरकार की इतनी आलोचना हुई कि खुद भाजपा को ही मैदान में कूदना पड़ा। भाजपा ने साफ किया कि रेलवे ने प्रवासी मजदूरों के लिए चलाई जा रही स्पेशल ट्रेन के किराए का 85 फीसदी देने का फैसला किया है और 15 फीसदी राज्यों से वसूला जाएगा, जो मानक किराया होगा।

भाजपा के आईटी सेल हेड अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा, "गृह मंत्रालय की गाइडलाइन में स्पष्ट है कि स्टेशनों पर कोई टिकट नहीं बिकेगा। रेलवे 85 प्रतिशत सब्सिडी दे रही है तो 15 प्रतिशत खर्च राज्य सरकार वहन करेगी। प्रवासी मजदूरों को कोई पैसा नहीं देना है। सोनिया गांधी क्यों नहीं कांग्रेस शासित प्रदेशों को खर्च उठाने के लिए कहतीं।"

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा को भी बचाव में कूदना पड़ा 

बिहार-एमपी बोले हम देंगे अपने मजदूरों का किराया

रेल किराए पर हो रही राजनीति के बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि किसी भी मजदूर को रेल किराया देने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा- 'मैं बिहार के लोगों को वापस भेजने के सुझाव पर विचार करने के लिए केंद्र को धन्यवाद देना चाहता हूं। अन्य राज्यों में फंसे बिहार के लोगों को वापस बिहार भेजने के लिए केंद्र को शुक्रिया। किसी को भी टिकट के लिए भुगतान नहीं करना पड़ेगा। उनके लिए यहां क्वारनटीन सेंटर बनाया गया है।'

 

वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने भी ट्वीट कर के कहा है कि किसी भी मजदूर से ट्रेन में किराया नहीं लिया जाएगा। मजदूरों का लाना का किराया खुद मध्य प्रदेश सरकार वहन करेगी।

 

अखिलेश बोले, गरीब के खिलाफ है भाजपा

यूपी के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा ट्रेन से वापस घर ले जाए जा रहे गरीब, बेबस मजदूरों से भाजपा सरकार द्वारा पैसे लिए जाने की खबर बेहद शर्मनाक है। आज साफ हो गया है कि पूंजीपतियों का अरबों माफ करने वाली भाजपा अमीरों के साथ है और गरीबों के खिलाफ।

भाजपा अपनी गलती का एहसास होते ही बचाव मुद्रा में आ गई। लगातार हो रहे विपक्ष के हमले से भाजपा ने खुद को बचाने के लिए श्रमिकों का शुभ चिंतक बताना शुरु कर दिया । पर सवाल ये है कि इस राजनीती के बीच उन मज़दूरों का क्या जिनसे किराया वसूला जा चूका है ?

Tags:
BJP   |  Congress   |  Covid-19   |  Lockdow

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP