Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

मानसून सत्र: जानिए क्या हैं सरकार के एजेंडे में शामिल 11 अहम अध्यादेश

आज से शुरू होने जा रहा संसद का मानसून सत्र हंगामेदार रहने की उम्मीद दी जा रही है। विपक्ष और सरकार दोनों ने अपनी-अपनी रणनीति तैयार कर ली है। सरकार के एजेंडे में 11 अहम अध्यादेश शामिल हैं जिन्हें वो इस सत्र में पेश करेगी और पारित कराने की कोशिश करेगी। तो क्या है ये अहम अध्यादेश आइए जानते हैं...

PB Desk
PB Desk | 14 Sep, 2020 | 8:28 am

सबसे पहले बात सत्र की शुरुआत की, तो सत्र की शुरुआत होगी दिवंगत सांसदों व पूर्व सांसदों को श्रद्धांजलि देने के साथ। जिन हस्तियों को श्रद्धांजिल दी जाएगी, उनमें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रख्यात शास्त्रीय गायक पंडित जसराज, लालजी टंडन और यूपी के मंत्री चेतन चौहान तथा कमल रानी वरुण शामिल हैं। इसके बाद दिन का कामकाज शुरू होगा। सबसे पहले संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी इस सत्र में कोरोना की बंदिशों के कारण प्रश्नकाल में तारांकित यानी स्टार मार्क वाले सवाल न पूछने और गैरसरकारी सदस्यों से संबंधित कार्य न कराए जाने की बात सदन के पटल पर रखेंगे। संभव है कि इस पर विपक्ष के सदस्य हंगामा करें, क्योंकि जिस दिन पहली बार प्रश्नकाल स्थगित होने की बात सामने आई थी, उसी दिन विपक्ष खासा बिफर गया था और सरकार पर हमला बोला था। ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी के सांसद डेरेक ओ ब्रायन और कांग्रेसी सांसद शशि थरूर खासे आक्रामक दिखे थे। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी इस पर सवाल उठाया था। बसपा के एक सांसद ने भी आपत्ति जताई थी। यानी हमला चारों तरफ से था। ऐसे में जब संसद में मंत्री प्रश्नकाल के बारे में प्रस्ताव करेंगे तो फिर से हंगामा होने की आशंका है।

Main
Points
दिवंगत सांसदों और पूर्व सांसदों को श्रद्धांजलि के साथ शुरू होगा सत्र
सरकार का ध्यान एजेंडों में शामिल अध्यादेश पारित कराने पर होगा
विपक्ष की ओर से प्रश्नकाल को लेकर हंगामे की संभावना

इन अध्यादेशों को पेश करने पर होगा सरकार का ध्यान 

दिन के एजेंडे की बात करें तो सरकार की तरफ से लगभग पूरा दिन बिल के प्रस्ताव रखने और बिल पेश करने पर ही रहेगा। हालांकि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फाइनेंस बिल वापस लेने का भी प्रस्ताव करेंगी। सीतारमण और एक अन्य केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल सदन के पटल पर पत्र रखेंगे। इसके बाद डा. हर्षवर्धन कोरोना महामारी पर सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी देंगे। अब यहां पर फिर से विपक्ष सवाल खड़े कर सकता है, हालांकि उसे संसदीय नियमों के तहत इसकी इजाजत संभवत: नहीं होगी, लेकिन हम सब जानते हैं कि विपक्ष कभी भी कोई भी सवाल कर सकता है। फिर विधायी कार्य यानी लेजिसलेटिव काम की तरफ बढ़ें तो सबसे पहले निर्मला सीतारमण एक बैंकिंग विनियमन संशोधन विधेयक 2020 को वापस लेने का आग्रह करेंगी और बिल वापस लेंगी।

सांसदों के वेतन भत्ते और पेंशन का अध्यादेश अहम 

संसदीय कार्यमंत्री प्रहलाद जोशी सांसदों के वेतन भत्ते और पेंशन से जुड़े एक बिल को पुन: स्थापित किए जाने का प्रस्ताव करेंगे और विस्तार से इसके बारे में सदन को जानकारी देंगे। इसी तरह खाद्य मामलों से संबंधित एक विधेयक को पुन: स्थापित करने के लिए केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान प्रस्ताव करेंगे। वहीं निर्मला सीतारमण, डा. हर्षवर्धन और नरेंद्र सिंह तोमर अलग-अलग विधेयक पुन: स्थापित करने के लिए सदन में प्रस्ताव करेंगे। इसमें कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर किसानों के हित से जुड़े तीन बिलों के लिए प्रस्ताव करेंगे और यह देखना अहम होगा कि यह तीन बिल किसानों के किन हितों को मजबूत करने के लिए पेश किए जा रहे हैं। अंतत: दिन के कामकाज के समाप्ति से पहले आयुर्वेद, योगा, होम्योपैथी, नेचुरोपैथी और यूनानी तथा सिद्ध पैथी के राज्य मंत्री होम्योपैथी और आयुर्विज्ञान प्रणाली से जुड़े दो विधेयक चर्चा के लिए पेश करेंगे। यह वो समय होगा, जब सांसद अपनी बात सामने रख सकेंगे और चर्चा कर सकेंगे।

Tags:
Monsoon Session   |  Important   |  Ordinances   |  Government   |  Agenda

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP