Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

सुपरपावर की टूटी कमर, अर्थव्यवस्था पर पड़ा कोरोना का बुरा असर !

अगर आंकड़ों की बात करें तो इस समय सबसे ज़्यादा कोरोना से प्रभावित देश अमेरिका को माना गया है| लॉकडाउन होने से अमेरिका यानी जिसे दुनिया की सुपरपावर कहा जाता है, आज उसकी अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। अमेरिका की कंपनियों ने अप्रैल में 2.02 करोड़ नौकरियों की कटोती की है|

Alisha
Alisha | 07 May, 2020 | 1:40 pm

जैसा की पूरी दुनिया को पता है, कोरोना वायरस ने अमेरिका में कोहराम मचा रखा है| जिसके चलते वहां लॉकडाउन कर दिया गया है | अगर आंकड़ों की बात करें तो इस समय सबसे ज़्यादा कोरोना से प्रभावित देश अमेरिका को माना गया है| हालांकि अच्छी ख़बर ये भी आ रही है कि,अमेरिका में कोरोना वायरस खत्म होने की कगार पर आ चूका है| कोरोना वायरस महामारी की वजह से अमेरिका में स्कूल,कारखाने,कार्यालय, स्टोर आदि बंद है| इन सब  जगह के बंद होने से अमेरिका यानी जिसे दुनिया की  सुपरपावर कहा जाता है, आज उसकी अर्थव्यवस्था चरमरा गई है| आपको बता दें,अमेरिका की कंपनियों ने अप्रैल में 2.02 करोड़ नौकरियों की कटोती की है|

Main
Points
कोरोना के चलते सुपरपावर अमेरिका की अर्थव्यवस्था हुई ख़राब
लगभग 2 करोड़ लोग निकाले कंपनी से
अमेरिकी सरकार और फ़ेडरल रिज़र्व ने किया राहत पैकेज का एलान
साल के अंत तक सुधर सकते है हालात

हर क्षेत्र में हुई छटनी

रोज़गार की स्तिथि में जानकारी देने वाली कंपनी ADP की रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था का कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है, जिसमे से लोगों की नौकरियों की कटौती नहीं हुई हो| पिछले महीने होटल क्षेत्र में 86 लाख कर्मचारी बेरोज़गार हुए, व्यापर,परिवाहन जैसे क्षेत्रों में 34 लाख लोगों ने अपनी नौकरी गंवा दी, निर्माण कंपनी ने 25 लाख कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया, वहीं विनिमार्ण कंपनियों ने 17 लाख कर्मचारियों की छटनी की| मार्च  दौरान इसमें 7.01 लाख की गिरावट दर्ज की गई थी|

राहत पैकेज के बाद कितनी मिलेगी लोगों को राहत?

माना ये जा रहा है कि, हाल ही में अमेरिका की सरकार और फेडरल रिज़र्व ने लाखों करोड़ डॉलर के राहत पैकेज का एलान किया है| इस एलान के बाद ये अनुमान लगाया जा रहा कि, अमेरिका में कंपनी अपने कर्मचारियों को शटडाउन में भी पेमेंट करती रहेंगी| मीडिया रिपोर्ट्स में फेड के वाईस चेयरमैन रिचर्ड क्लारिडा के हवाले से कहा गया है कि, इस नाज़ुक समय में सरकार को अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए ज़रूरी कदम उठाते रहने होंगे|

इस साल के अंत तक सुधर सकते हैं हालात

अमेरिका में नौकरियों की छटनी को लेकर कई जानकारों ने कहा है कि, यह हैरानी की बात नहीं है| हालांकि इस साल के खत्म होने तक हमे सुधार देखने के लिए मिलेंगे | फेड प्रेसीडेंट सेंट लुईस बलार्ड ने कहा है कि, ये स्तिथि हमे शटडाउन की वजह से देखने के लिए मिली है, पर कोरोना महामारी इस समय हमारी सबसे बड़ी चिंता है, और इस पर जीत हासिल करना हमारा सबसे बड़ा लक्ष्य है|

Tags:
Corona Virus   |  america   |  economy   |   jobs   |  company   |  super power

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP