Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

भारत में बढ़ती बेरोज़गारी पर विपक्षी सांसदों ने जताई चिंताऐं


Parliamentary Business Team
Parliamentary Business Team | 16 Mar, 2020 | 12:00 am

"मद्रास में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण गणित स्नातकोत्तर युवती सफाई कर्मचारी की नौकरी कर रही है ,वही एक एमबीए युवक रेलवे में खलासी है "- डीएमके सांसद अनिमूढ़ राजा ने बजट सत्र के दूसरे चरण के 18 वें दिन प्रश्न काल के दौरान बेरोज़गारी पर सरकार को सदन में घेरने की कोशिश की। 

Main
Points
शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों दोनों ही में रोजगार की स्थिति चिंताजनक
वर्ष 2016 में 2.6 करोड़ और वर्ष 2017 में 2.4 करोड़ युवाओं ने पंजीकरण कराया है

लोकसभा में बढ़ती बेरोजगारी और शिक्षा को लेकर हुई चर्चा में विपक्ष ने चिंताजनक आंकड़े सदन के समक्ष प्रस्तुत किये जिसमें कांग्रेसी सांसद अधूर प्रकाश ने कहा कि वर्तमान में केरल में लगभग 30,800 डॉक्टर्स अभी भी बेरोजगार हैं, वहीं तकरीबन 45,913 इंजीनियर बेरोजगार हैं। वहीं शिव सेना सांसद अरविन्द गनपत सावंत ने कहा कि -KINGFISHER , J$K ,NOKIA जैसी निजी कंपनियों के बंद हो जाने से कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों दोनों ही में रोजगार की स्थिति चिंताजनक है। एक साल के भीतर केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गयी योजनाओं से युवाओं को कितना लाभ हुआ है इसका पूरा लेखाजोखा केंद्र सरकार बताये।

विपक्ष द्वारा उठाये गए मुद्दों का जवाब देते  हुए केंद्रीय  श्रम एवं  रोजगार मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने कहा, “केंद्र सरकार द्वारा 8 क्षेत्रों में 6 लाख 60 हज़ार रोजगार की वृद्धि हुई है शिक्षा योजनाओं के तहत युवाओं को न केवल रोजगार दिए गए हैं बल्कि अब वह दूसरों को रोजगार देने योग्य बन रहे हैं। वर्ष 2020 -21 में कौशल विकास योजना द्वारा 30 हजार और रोजगार योजना द्वारा 90 हजार को युवाओं को रोजगार मुहैया कराया जा रहा है।  उन्होंने कहा कि विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा रोजगार पंजीकरण योजना शुरू की गई हैं जिसमें वर्ष 2016 में  2.6 करोड़ और वर्ष 2017 में 2.4 करोड़  युवाओं ने पंजीकरण कराया है। परन्तु दुःख की बात यह है की नौकरी लग जाने के बाद वो लोग इसकी सूचना रोज़गार कार्यालय को नहीं देते हैं।

INTERNATIONAL LABOUR ORGANISATION (ILO) - जोकि एक यूनाइटेड नेशनल एजेंसी है, के अनुसार भारत में बेरोजगारी कम होने की जगह दिन प्रतिदिन बढ़ती ही  जा रही है। वर्ष 2016 -17 में जहां यह आंकड़ा 3.5 % था , वहीं वर्ष 2018 -19 में यह बढ़ कर 3.8% हो गया है ,बेरोजगारी दर फरवरी 2020 में 7.8 % हो गयी है  ,ग्रामीण क्षेत्रों में यह दर ,जनवरी में 7. 2 से बढ़कर 7. 4  हो गयी है।

Tags:

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP