Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

लोगो को समझाने को बरसा पुलिस का डंडा


Parliamentary Business Team
Parliamentary Business Team | 26 Mar, 2020 | 12:00 am

वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना वायरस का संक्रमण थमने का नाम ही नही ले रहा है।जहां विश्व में इससे संक्रमित लोगो का आंकडा 468,644 और मृत्यू 21,191 हो चुकी हैं। वही भारत में यह संख्या 649 और 13 लोगो की अब तक कोरोना संक्रमण की वजह से जान जा चुकी है। जिसके चलते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 24 मार्च को देश मे सम्पूर्ण लाँकडाउन का एलान किया। कुछ आवश्यक सेवाओ को छोडकर जैसे अस्पताल, पुलिस सेवा ,टेलीकाँम सर्विस,घरेलू समान को छोड बाकी सब बंद रहेगा । लाँकडाउन का अर्थ है बेवजह लोग अपने घरो से बाहर न निकलें ।यहां तक की पीएम मोदी ने हाथ जोडकर लोगो से प्रशासन के सभी दिशानिर्देशो का पालन करने की अपील की। जिसमे देशवासी पूरी तरह से सहयोग भी कर रहे हैं । पर लाँकडाउन का दूसरे ही दिन है फिर भी, देश के कई राज्यो से जनता द्वारा इसका पालन न करने की खबरें जोरों पर है।मालूम होता है लोगो को नियम पालन नही करने में भी कोई एक्साइटमेंट दिख रही है। इस स्थिति में नियमो का पालन करवाने के लिए निश्चित ही पुलिस को सख्त कदम उठाने पड रहे हैं।

बिलासपुर के कई थाना क्षेत्रो में कल क्फ्रर्यू के होते हुए भी दुकाने खोलने वालो के खिलाफ 8 एफआईआर दर्ज कराये गए ।वहीं बेवजह घूमती 1254 गाडियो का चालान किया गया। धारा 144 लागू कराने के लिए पुलिस पूर्णतयाः मुस्तैद दिखाई दी।

Main
Points
पीएम मोदी की लोगो से हाथ जोड़कर घर पर ही रहने की अपील
लाकडाउन के नियमो को ठेंगा दिखा सड़क पर घूम रहे लोग
डंडे के जोर पर कार्रवाई करने को मजबर हुई प्रदेश पुलिस
“मैं समाज का दुश्मन हूं ,मैं घर पर नही रुकूंगा”
गाड़ियो का चालान, पालन न करने वालो की एफआईआर और कभी गुलाब का सहारा ले लोगो को समझाती पुलिस

हैदराबाद सिटी पुलिस के ट्वीट के मुताबिक 1058 दोपहिया वाहन,948 तीन पहिया वाहन 429 चौपहिया वाहन और 45 अन्य वाहनो को अपनी कस्टडी में लिया। कहीं पुलिस द्वारा लोगो को गुलाब का  फूल देकर समझाने की मुहिम चल रही है।

केन्द्र और राज्य सरकारो के समझाने के बावजूद दैनिक सामान की खरीदारी के लिए लोगो में अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है।बंगाल  और पंजाब में पुलिस द्वारा लोगो को समझाने के लिए उनकी कमर पर ढंढे बरसाने व लोगो की बेइजज्ती करने का नजारा सामने आया है।

सोशल डिस्टेन्सिंग  के लिए लोगो को समझाती पुलिस कभी प्रेम तो  कभी सजा का सहारा लेने को मजबूर नजर आ रही है । तिरुवनंतपुरम में भी  प्रशासन के नियमों को ठेंगा दिखाने वाले 403 लोगो के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किये हैं । वहीं सडको पर बेवजह घूमते और जरुरत का सामान न बेचने वाले123 लोगो के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है।

मध्यप्रदेश पुलिस ने तो ऐसे लोग को सबक सिखाने का अलग ही तरीका अपनाया जिसमें उनके हाथो मे यह पैम्फलेट थमाकर देर तक खडा किया गया जिसपर लिखा था “मैं समाज का दुश्मन हूं मैं घर पर नहीं रहूगां”।

घर पर ठहरने को प्रेरित करती  पुलिस कहीं लोगो को उठा बैठक कराती नजर आई ,तो कहीं डंडे के जोर पर  कान पकडवा उनका मुर्गा बनाती नजर आई।सभी शैक्षणिक संस्थाओ के बंद होने का सरकार द्वारा  आदेश होने के  बावजूद पंजाब के लुधियाना में एक स्कूल खुला जिसके खिलाफ पुलिस को मजबूर हो एफआईआऱ दर्ज करनी पडी। जो शिक्षक ज्ञान देने का माध्यम हैं वह ऐसी हरकते करें तो यह बेहद शर्म की बात है।

कोरोना वायरस के बढते संक्रमँण के बावजूद देश के तमाम हिस्सो से ऐसी खबरे आना बेहद निंदनीय है । सवाल यह उठता है क्या लोगो को यह महामारी फैलना तमाशा लग रहा है?  होम क्वैरेन्टाइन की हाथ पर स्टैमप  होने के बावजूद एक दंपती ट्रेन में सफर करते नजर आये ,क्या उनका अपनी व दूसरो की हिफाजत करने का कर्तव्य नही।क्या वह केवल देश से अपने अघिकारो की मांग की ही उम्मीद रखते हैं। देश का प्रधानमंत्री उनके आगे हाथ जोड घर पर ठहर संक्रमण को रोकने की अपील कर रहा ,क्या उनके लिए ये भी मायने नही रहा । ऐसे में पुलिस द्वारा उठायें जा रहे कदम  किसी हद तक सही भी हैं।

Tags:

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP