Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKINGOUT OF

पश्चिम बंगाल में चढ़ा सियासी पारा, पीएम मोदी और ममता में होगी भिड़ंत

पश्चिम बंगाल में अब चुनावी पारा चढ़ने लगा है। हालांकि सूबे में विधान सभा चुनाव अगले साल होने हैं लेकिन बीजेपी और टीएमसी के बीच सियासत की लड़ाई कुलांचे मार रही है। बीजेपी ने यह घोषणा कर सूबे की सियासत को और गर्म कर दिया है कि आगामी चुनाव में बीजेपी पीएम मोदी के नाम पर ही चुनाव लड़ेगी। बीजेपी के इस ऐलान के बाद साफ हो गया है कि अगले चुनाव में मोदी और ममता आमने-सामने होंगे।

PB Desk
PB Desk | 24 Aug, 2020 | 2:30 pm

बीजेपी पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों के लिए किसी को मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर पेश नहीं करेगी और तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ लड़ाई के लिए उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास पर भरोसा है। बंगाल के लिए पार्टी के रणनीतिकार और भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने रविवार को जैसे ही यह जानकारी दी, सूबे की सियासत गर्म हो गई। विजयवर्गीय ने कहा  कि सत्ता में आने के बाद भगवा दल अपने मुख्यमंत्री का चुनाव करेगा। जाहिर है बंगाल का चुनाव ममता और मोदी के चेहरों के बीच होना है।

Main
Points
बंगाल में चुनावी पैंतरेबाजी शुरू
आगामी चुनाव चुनाव को लेकर बीजेपी की समीक्षा बैठक
ममता की परेशानी बढ़ी
पीएम मोदी के नाम पर बीजेपी लड़ेगी चुनाव

आज बीजेपी की समीक्षा बैठक

उल्लेखनीय है कि प्रदेश भाजपा में समीक्षा बैठक हो रही है।  पिछले लॉकडाउन और गणेश चतुर्थी के कारण पिछले 4 दिनों से बैठक स्थगित थी, लेकिन सोमवार से फिर से समीक्षा बैठक शुरू होने की संभावना है। इस बैठक में पार्टी विधानसभा चुनाव की रणनीति बना रही है। पार्टी में उत्साह है और पार्टी किसी भी सूरत में बंगाल में सत्ता पर काबिज होना चाहती है।

बीजेपी नहीं उतारेगी सीएम का चेहरा

विजयवर्गीय ने कहा कि अभी के लिए यह तय किया गया है कि हम किसी को भी अपने मुख्यमंत्री चेहरे के तौर पर पेश नहीं करेंगे। हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव लड़ेंगे और जीतेंगे। एक बार सत्ता में आने के बाद विधायक दल केंद्रीय नेतृत्व से परामर्श के बाद मुख्यमंत्री के तौर पर अपनी पसंद का फैसला करेगा। यह पूछे जाने पर कि क्या पार्टी ने इसके लिए किसी नाम पर विचार किया है, उन्होंने कहा कि इसका जवाब तो समय के पास है।

230 सीटों पर बीजेपी का दावा

उन्होंने कहा कि अभी हमारा लक्ष्य 294 सदस्यीय विधानसभा में 220-230 सीटें जीतना है और बहुमत से भाजपा की सरकार बनायेंगे। हम अपना लक्ष्य हासिल करेंगे, जैसा हमने लोकसभा चुनावों में किया था। मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर किसी को पेश करना कोई मुद्दा नहीं है।

ममता की लड़ाई बीजेपी से

भाजपा ने 2016 का विधानसभा चुनाव भी मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर बिना कोई चेहरा सामने रखे ही लड़ा था। लेकिन बीते 4 वर्षों में बंगाल की राजनीति बदल चुकी है। बंगाल में बीजेपी ताकतवर हुई है और बंगाल की बड़ी आबादी बीजेपी के साथ आ गई है। सच यही है कि बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के लिए बीजेपी प्रमुख चुनौती के तौर पर उभरी है। उसने परंपरागत विरोधी दलों माकपा और कांग्रेस को तीसरे और चौथे स्थानों पर पहुंचा दिया है।

बीजेपी की पहुंच

भगवा दल ने पिछले साल बंगाल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए प्रदेश की 42 में से 18 लोकसभा सीटें जीत कर राजनीतिक पंडितों को भी चौंका दिया था। उसे राज्य में 41 फीसदी मत मिले थे और उसकी सीटें सत्ताधारी टीएमसी से सिर्फ 4 कम थीं। भाजपा सूत्रों के मुताबिक, चुनावों से पहले मुख्यमंत्री पद के दावेदार का चेहरा तय करना पार्टी के लिए दोधारी तलवार साबित हो सकता है। इसलिए चुनाव जीतने के लिए यह बेहतर होगा कि विरोधी खेमे की नकारात्मकता पर भरोसा किया जाये। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि हम नरेंद्र मोदी द्वारा किये गये विकास कार्यों पर चुनाव लड़ेंगे और टीएमसी सरकार की नाकामियों को उजागर करेंगे।

Tags:
Narendra Modi   |  Mamta Banerjee   |  West Bengal   |  BJP

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP