Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

कोविड19 के साथ अन्य बीमारियों की तरफ भी ध्यान दें देश: विश्व स्वास्थ्य संगठन

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अन्य देशों से अनुरोध किया है कि स्वास्थ्य व्यवस्था पर अत्यधिक दबाव होने के बावजूद कोरोना वायरस की वजह से अन्य भयानक बीमारियों को नजरअंदाज न करें। संगठन ने कहा है कि मलेरिया पोलियो जैसी बीमारियों की तरफ देशों को ध्यान देना चाहिए।

Manmeet Singh
Manmeet Singh | 27 Apr, 2020 | 1:48 pm

कोरोना वायरस की वजह से विश्व की स्वास्थ्य व्यवस्था पर अत्यधिक दबाव है। दुनिया के हर एक देश की स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह  कोरोना के मरीजों का इलाज करने में समर्पित है। ऐसी स्थिति में उनका ध्यान अन्य खतरनाक बीमारियों जैसे मलेरिया  पोलियो खसरा की तरफ से लगभग हट गया है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने देशों को चेतावनी देते हुए कहा कि महामारी की इस घड़ी में पोलियो  और मलेरिया जैसी बीमारियों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। संगठन ने माना कि स्वास्थ्य व्यवस्था पर अत्यधिक दबाव है इसके बावजूद देशों  को इन बीमारियों के खिलाफ उपचार को जारी रखना चाहिए।

Main
Points
कोविड 19 को दें तरजीह लेकिन मलेरिया और पोलियो को न करें नजरअंदाज
दुनिया की स्वास्थ्य व्यवस्था पर है अत्यधिक दबाव
कोरोना वायरस से सर्वाधिक प्रभावित है यूरोप महाद्वीप
विभिन्न देश अपनी परिस्थिति के हिसाब से उठाएं कदम

अफ्रीका के विश्व स्वास्थ्य संगठन के  क्षेत्रीय निदेशक डॉक्टर मोइती ने कहा, "मैं सभी देशों से आग्रह करता हूं कि वे स्वास्थ्य के अन्य पहलुओं पर भी ध्यान दें।  हमने पश्चिम अफ्रीका में इबोला वायरस रोग के प्रकोप को देखा है । हम इबोला के प्रकोप से हार गए। आइए हम COVID-19 के साथ इसे न दोहराएं। ' अफ्रीका ने पिछले 20 वर्षों में मलेरिया के प्रसार को रोकने में महत्वपूर्ण प्रगति की है। मलेरिया की रोकथाम और उपचार कार्यक्रमों और मलेरिया विरोधी अभियानों के साथ इसे जारी रखना आवश्यक है।

यूरोप है अत्यधिक प्रभावित

कोरोना वायरस से सर्वाधिक प्रभावित यूरोपीय महाद्वीप है। यूरोप में कुल 1341851 लोग कोरोना से संक्रमित हैं वहीं 122218 लोग इस महामारी की वजह  से अपनी जान गवां चुके हैं। इसके बाद बारी आती है संयुक्त राज्य अमेरिका की जहां कोरोना संक्रमितओं की संख्या 1094846 है और मरने वालों की तादाद 56063 है । पिछले 24 घंटों में ही  कोरोना संक्रमण के 85000 नए मामले सामने आए हैं।

डब्ल्यूएचओ ने covid-19 के प्रसार के जवाब में कई देशों द्वारा शुरू किए गए लॉकडाउन प्रतिबंधों के क्रमिक ढील के संदर्भ में प्रमुख बिंदु प्रकाशित किए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है की हर देश की परिस्थिति एक जैसी नहीं है। लॉकडाउन से बाहर आना एक जटिल और चुनौतीपूर्ण कार्य होगा। यह महत्वपूर्ण है कि देश स्पष्ट रूप से  जनता से संवाद करें और उनमें विश्वास पैदा करें। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि सुनिश्चित करें कि लोग अपनी स्थिति के अनुरूप प्रतिबंधों का पालन करते हैं।

टीकाकरण पर ध्यान दें देश

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र ने दुनिया के देशों को खसरा के टीकाकरण की तरफ भी ध्यान देने की बात कही थी। उसके मुताबिक 117 मिलियन से ज्यादा बच्चे खसरा के टीके से वंचित रह जाएंगे।

कोरोना वायरस की वजह से खसरा के खिलाफ टीकाकरण अभियान को 24 देशों ने पहले ही टाल दिया है और जल्द ही अन्य तेरह देश भी इसे रद्द कर देंगे। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) अन्य स्वास्थ्य सहयोगियों ने एक बयान में कहा की यदि खसरा के खिलाफ टीकाकरण के अभियान में कोरोनावायरस की वजह से अवरोध उत्पन्न हो रहा है तो हम विश्व  नेताओं से आग्रह करते हैं कि वे  जिन बच्चों का टीकाकरण नहीं हुआ है उन बच्चों को ट्रैक करने के प्रयासों को तेज करें, ताकि जल्द से जल्द खसरे का टीका कमजोर आबादी को मुहैया कराया जा सके।

अगर खसरे के टीकाकरण अभियान को नजरअंदाज किया गया तो हम ऐसी जिंदगियों को भी खो देंगे जिन्हें दवाइयों की वजह से बचाया जा सकता है।

Tags:
olio   |  malaria   |  Corona Virus   |  Covid-19   |  who

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP