Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

SII, पुणे की वैक्सीन से होगा कोविड-19 का इलाज, मई में होगें ट्रायल्स

दुनिया की सबसे बड़ी भारतीय वैक्सीन सप्लाई कंपनी SII ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर बनाई कोविड-19 की वैक्सीन, मई में शुरु हो सकते हैं वैक्सीन के ट्रायल्स

Archna Jha
Archna Jha | 28 Apr, 2020 | 7:34 pm

वर्तमान में कोविड-19 के चलते वैश्विक स्तर पर 3,072,863 लोग संक्रमित और 211,738 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। जिसकी रोकथाम के लिए प्रत्येक देश अपने-अपने स्तर पर काम कर रहा है। ऐसे में, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की तरफ से एक अच्छी ख़बर सामने आई है। जिसमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर कोविड-19 की वैक्सीन बनाने जा रहा है।

Main
Points
पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी साथ मिलकर कर रहे हैं कोविड-19 वैक्सीन पर काम
भारत में मई में शुरु होंगें वैक्सीन के ट्रायल्स
ट्रायल्स के सभी मानकों पर सही होने के बाद ही बाज़ार में उपलब्ध होगी वैक्सीन: अदार पूनावाल, सीईओ, SII
एक हज़ार रुपये हो सकती है वैक्सीन की कीमत: अदार पूनावाला
दुनिया में सबसे ज्यादा 1.5 अरब डोज़ SII में बनते हैं

क्या है कंपनी का दावा

दरअसल पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ने ब्रिटेन स्थित ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के डॉक्टर हिल के साथ मिलकर कोविड-19 वैक्सीन पर काम शुरु कर दिया है। इस बारे में SII  के मुख्य अधिकारी अदार पूनावाला का कहना है कि- “भारत में वैक्सीन के ट्रायल्स मई में शुरु करने की उम्मीद है, यदि ट्रायल्स सभी सुरक्षा मानदंडों पर कामयाब रहते हैं तो 3 हफ्ते में कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादन शुरु हो जाएगा। अगर सबकुछ ठीक रहता है , तो सितबंर से अक्टूबर के बीच यह वैक्सीन बाज़ार में भी आ जाएगी। पुणे में SII की प्रोडेक्शन और मैनुफैक्चरिंग फैसिलिटी कोविड-19 की वैक्सीन बनाने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इतना ही नही SII का लक्ष्य सितबंर तक 2 से 4 करोड़ डोज़ बनाने तक का है।” बता दें कि ब्रिटेन में सितबंर से अक्टूबर तक मेडिकल ट्रायल्स के बाद ही वैक्सीन का उत्पादन SII की ओर से किया जाएगा।

क्या होगी वैक्सीन की कीमत

अदार पूनावाला का कहना है कि- “भारत में वैक्सीन की आवश्यकता अधिक देखते हुए अफोर्डेबल कीमत (एक हज़ार रुपये) तक हो सकती है जबकि ब्रिटेन में इसकी कीमत 10 से 12 गुना अधिक होने की उम्मीद जताई जा रही है।” 

भविष्य में कोविड वैक्सीन को लेकर SII  का क्या कहना है

इस संदर्भ में कंपनी के सीईओ का कहना है कि – “यह वैक्सीन पुणे स्थित सीरम कंपनी में ही तैयार की जाएगी लेकिन नया प्लांट तैयार करने में 3 हजार करोड़ और 2 साल का वक्त लग सकता है, जिसके  चलते हम यहां बाकी सभी वैक्सीन का उत्पादन बंद कर देंगें, ऐसे में हमें उम्मीद है कि कहीं न कहीं सरकार भी हमारे इस प्रयास में सहभागी बनेगी, जिससे हम खर्चे की भरपाई कर सकें”

क्या है सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया

बता दें कि भले ही सीरम इंस्टीट्यूट, पुणे ज़्यादा प्रसिध्द न हो लेकिन दुनिया भर में बिक्री के लिहाज से यह सबसे बड़ी वैक्सीन कंपनी है, 53 साल पुरानी यह कंपनी हर साल 1.5 अरब डोज़ बनाती है। इस कंपनी के नीदरलैंड और चेक रिपब्लिक में भी प्लांटस् हैं। यह कंपनी पहले भी डेंगू और निमोनिया जैसी बिमारियों के लिए वैक्सीन बना चुकी है। 165 देशों को 20 तरह की वैक्सीन सप्लाई करने वाली यह कंपनी अपने यहां बनी वैक्सीन का करीब 80%  हिस्सा निर्यात करती है। अदार का कहना है कि- “कोरोना के चलते देश की वर्तमान स्थिति को देखते हुए कंपनी एक बड़ा रिस्क ले रही है, इसलिए ट्रायल्स और वैक्सीन बनाने की प्रक्रिया को एकसाथ शुरु कर रही है।” बता दें कि पहले भी एक प्रेस रिलीज़ के ज़रिये SII ने कोरोना वैक्सीन को लेकर अपनी भविष्य योजनाओं के बारे में बताया था।

Tags:
Covid 19   |  penedemic   |  seruminstitute   |  India   |  oxford   |  university   |  vaccine

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP