Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

मध्य प्रदेश में थमेगा सियासी घमासान, सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा फैसला!

लॉकडाउन के बीच सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया है, जिससे मध्य प्रदेश की सियासत में काफी उठापटक के बाद अब स्थिरता आ सकती है। जस्टिस डी.वाई चंद्रचूड़ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई करते हुए कांग्रेस की याचिका को खारिज कर दिया और राज्यपाल के फैसले को मान्य बताया।

Suyash Tripathi
Suyash Tripathi | 13 Apr, 2020 | 6:31 pm

कोरोना संकट के मद्देनज़र देशव्यापी लॉकडाउन को अमल में लाया गया था, जिसके चलते देशभर में सभी कामकाज के क्षेत्र ठप्प हो गए थे। लेकिन ऐसे संकट के वक्त भी देश का सर्वोच्च न्यायालय वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए लगातार अहम मामलों पर सुनवाई कर रहा है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से दायर याचिका पर फैसला सुनाया। इस फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की याचिका रद्द कर राज्यपाल के फैसले को सही बताया।

Main
Points
सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश के मामले में सुनाया बड़ा फैसला
कांग्रेस की याचिका को किया खारिज
राज्यपाल के फैसले को बताया सही

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने आज अपने फैसले में कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी की ओर से दाखिल की गई याचिका को रद्द करते हुए उनके तर्क को बेबुनियाद बताया।अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा था कि राज्यपाल फ्लोर टेस्ट का आदेश नहीं दे सकते हैं। जस्टिस डी.वाई चंद्रचूड़ ने सुनवाई के दौरान कहा कि “राज्यपाल ने तब खुद कोई निर्णय नहीं लिया, बल्कि सिर्फ फ्लोर टेस्ट कराने को कहा। एक चलती हुई विधानसभा में दो तरह के ही रास्ते बचते हैं, जिसमें फ्लोर टेस्ट और नो कॉन्फिडेंस मोशन ही है। अदालत ने इस दौरान राज्यपाल के अधिकारों को लेकर एक विस्तृत आदेश भी जारी किया।”

बता दें कि मार्च में मध्य प्रदेश में काफी सियासी उठापटक देखने को मिला, जिसके चलते गवर्नर लालजी टंडन ने विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का आदेश दे दिया। लेकिन, कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए सदन की कार्यवाही को विधानसभा स्पीकर ने कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दिया। जिसके बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा गया। भारतीय जनता पार्टी के नेता और पूर्व मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विधायकों की खरीद-फरोख्त को लेकर कमलनाथ सरकार पर आरोप लगाया था। फ्लोर टेस्ट करवाने को लेकर सर्वोच्च अदालत में याचिका भी दायर हुई थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत फ्लोर टेस्ट करवाने का आदेश दिया। फ्लोर टेस्ट होने से पहले ही तत्कालीन मुख्य मंत्री कमलनाथ ने अपना इस्तीफा दे दिया और दोबारा शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की कमान संभाल ली।

Tags:
Corona pandemic   |  Supreme court   |  MP   |  Politics   |  Kamalnath   |  Congress   |  Shivraj Singh Chauhan   |  BJP,

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP