Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKOUT OF

यूपी के 15 ज़िलों को लेकर क्या रहा योगी सरकार का फैसला? जानिए!


Ankit Mishra
Ankit Mishra | 09 Apr, 2020 | 9:17 am

कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने अत्यधिक संक्रमण प्रभावित 15 जिलों के कुछ चिह्नित जगहों को आज रात 12 बजे से 15 अप्रैल तक के लिए सील करने का फैसला किया है। इस दौरान इन जगहों पर कर्फ़्यू जैसे हालात रहेंगे और कोई भी बाहर नहीं निकल सकेगा। इस दौरान प्रतिबंधित क्षेत्रों में मीडिया के जाने पर भी मनाही होगी।

Main
Points
उत्तर प्रदेश के 15 जिलों के कुछ क्षेत्र 15 अप्रैल तक के लिए सील
वह क्षेत्र जहां कोरोना संक्रमित मरीज़ है वह होंगे सील
लखनऊ में प्रदेश सरकार की एक उच्च स्तरीय बैठक में हुआ फैसला

लखनऊ में प्रदेश सरकार की एक उच्च स्तरीय बैठक हुई जिसमें सरकार के उच्च अधिकारी समेत जिलों के डीएम और एस पी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मौजूद रहें। इस बैठक में कोरोना के सारे हॉटस्पॉट चिन्हित करने के साथ-साथ कर्फ्यू के दौरान सारी व्यवस्थाएं सामान्य रखने की कार्य-योजना बनाई गई।

इस बैठक के बाद उत्तर प्रदेश के 15  जिलों के कुछ चिन्ह्ति स्थान, जहां कोरोना संक्रमित मरीज़ है या संभावना है उन क्षेत्रों को पूर्णतः सील किया जायेगा। आगरा, शामली, मेरठ, बरेली, कानपुर, वाराणसी, लखनऊ, बस्ती, गाजियाबाद, सहारनपुर, महाराजगंज, सीतापुर, बुलंदशहर, फिरोजाबाद और नोएडा के हॉटस्पॉट्स को सील करने का फैसला किया है। इस दौरान इन क्षेत्र के लोगों को मूल-भूत की जरूरत की चीज़ों के लिए भी घर से बाहर निकलने पर मनाही होगी। दूध, राशन आदि जरूरत के सामानों की होम डिलीवरी सरकार द्वारा सुनिश्चित की जाएगी। इस दौरान बैंकिंग सुविधा भी घर पर ही उपलब्ध होगी। इन चिन्हित हॉटस्पॉट में सबसे अधिक आगरा के 22, लखनऊ नोएडा के 12 और  गाजियाबाद के 13 स्थान शामिल है।

बैठक के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि तब्लीगी जमात के 187 लोगों में कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट मिली है। इनसे संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ा है। अभी तक 350 से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट पॉज़ीटिव आयी है।

बैठक के पहले मीडिया से मुखातिब हुए प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि जरूरत की सामानों के लिए दिए गए छूट का लोग बेजां फायदा उठा रहे थे। इसे रोकने के लिए यह कदम उठाना पड़ा। सचिव ने कहा कि तब्लीगी जमात के लोगों ने गैरजिम्मेदाराना कार्य किया है। उन्होंने कहा कि जिस भी व्यक्ति में कोरोना वॉयरस के लक्षण हों वह तुरंत अपने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सूचित करें। इसमें कोई शर्म की बात नहीं है।

Tags:
Uttar Pradesh   |  yogi adityanath   |  Lockdow

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP