Your image is ready, you can save / share this image
Please wait!
#MPsPerformance


%
RANKINGOUT OF

यूपी में बढ़ रही है जमातियों से मुसीबत, लॉकडाउन तोड़ने वाले 9955 पर रिकॉर्ड एफआईआर


Ankit Mishra
Ankit Mishra | 08 Apr, 2020 | 8:02 pm

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 348 हो गई है। कोरोना वायरस के मंगलवार को प्रदेश में 28 नए मरीज़ मिले है। पिछले एक हफ्ते में उत्तर प्रदेश में मरीज़ों की संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। पहले जहां संक्रमित लोगों की संख्या गौतम बुद्ध नगर, लखनऊ और आगरा तक सीमित थे, अब ये उत्तर प्रदेश के 37 जिलों में फ़ैल चुके हैं।

Main
Points
उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 348 हुई
तब्लीगी जमात से जुड़े 178 मरीज
उत्तर प्रदेश के 37 जिलों में फ़ैल चुका है कोरोना
लॉकडाउन तोड़ने वाले 9955 पर एफआईआर

उत्तर प्रदेश सरकार का मानना है कि तब्लीगी जमात से आये लोगों के चलते ख़तरा बढ़ा है। कोरोना संक्रमितों की संख्या में हुई बढ़ोत्तरी में जमातियों का बड़ा योगदान है। कुल कोरोना संक्रमित मरीज़ों में से 178 तब्लीगी जमात से जुड़े हैं। तब्लीगी जमात से आये लोगों के चलते कोरोना संक्रमित मरीज़ों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

जमातियों से बढ़ी समस्या

उत्तर प्रदेश के अपर गृह सचिव अवनीश अवस्थी ने कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए सरकार की तैयारियां और वर्तमान हालात की जानकारी दी। अपर गृह सचिव ने बताया कि तब्लीगी जमात से जुड़े 1551 लोगों की पहचान कर ली गई है जिनमें 1257 लोगों को क्वरेन्टीन में रखा गया है। इन 1257 में क्रमशः मेरठ(232), बरेली(227), वाराणसी(213), गोरखपुर(213), कानपुर(106) और आगरा(131) के लोग हैं।

इन जमातियों में 323 विदेशी नागरिक भी हैं। उत्तर प्रदेश प्रशासन ने 259 पासपोर्ट धारक विदेशी नागरिकों के पासपोर्ट ज़ब्त कर लिए है। शेष विदेशी नेपाल के नागरिक हैं जिन्हें भारत में आने के लिए पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं होती। प्रदेश सरकार द्वारा जमातियों को ढूंढा जा रहा है साथ ही उन्हें शरण देने वालों पर मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही भी की जा रही है। गृह सचिव ने तब्लीगी जमातियों को चिन्हित करने में प्रदेश की जनता से सहयोग की भी अपील की है।

जांच पर है ज़ोर

अपर गृह सचिव ने कोरोना से निपटने के लिए कोरोना संक्रमण की जांच की आवश्यकता पर ज़ोर दिया। उन्होंने बताया कि प्रदेश में जांच की संख्या बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। अपर गृह सचिव के अनुसार प्रदेश के कुल 24 मेडिकल कॉलेजों में से 10 में टेस्टिंग लैब स्थापित किए गए हैं। इसके अलावा बाकि बचे 14 मेडिकल कॉलेजों में भी इसे जल्द से जल्द स्थापित कर दिया जायेगा। मुख्यमंत्री द्वारा स्थापित किए गए कोविड केयर फंड की सहायता से मिलने वाली राशि को भी जांच की व्यवस्था सुदृढ़ करने में ही खर्च किया जा रहा है।

अपर मुख्य सचिव गृह ने बताया कि कोरोना की रोकथाम और लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए  पुलिस विभाग द्वारा की गई कार्रवाई में अब तक धारा 188 के अंतर्गत 9955 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है जबकि अब तक कुल 32,132 लोग गिरफ्तार किए गये।

Tags:
Up gov   |  pc   |  tabligi   |  yogi adityanath

Stories for you

SEARCH YOUR MP

Or

Selected MP